ब्रेकिंग न्यूज़
  • जम्मू कश्मीर के पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान जैश का आतंकी ढेर
  • Delhi Air Pollution: दिल्ली में वायु प्रदूषण से मिली थोड़ी राहत, AQI में आई थोड़ी सी गिरावट
  • Breaking: गोवा में MiG-29K फाइटर एयरक्राफ्ट क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित
  • भीमा कोरेगांव विवाद: पुणे कोर्ट से सभी आरोपियों को दिया बड़ा झटका, जमानत याचिका की खारिज
  • भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण

खबरें अब तक

  • भखारा को तहसील का दर्जा मिलने से राजस्व प्रकरणों का स्थानीय स्तर पर हो रहा निराकरण

    भखारा को तहसील का दर्जा मिलने से राजस्व प्रकरणों का स्थानीय स्तर पर हो रहा निराकरण

    धमतरी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गत दिनों कुरूद विकासखण्ड की उप तहसील को पूर्ण नवीन तहसील का दर्जा प्रदान कर उसका वर्चुअल शुभारंभ 11 नवंबर 2020 को किया। राज्य सरकार द्वारा स्थानीय लोगों की परेशानियों को देखते हुए सत्ता का विकेन्द्रीकरण किया गया, जिसके तहत भखारा उपतहसील को तहसील के तौर पर उन्नयित किया गया। इससे भखारा क्षेत्र के ग्रामीणों को अपने राजस्व प्रकरणों व कार्यों को लेकर कुरूद तक की दूरी तय नहीं करनी पड़ेगी। भखारा को तहसील बनाए जाने क्षेत्र की 52 ग्राम पंचायतों व 73 ग्रामों में स्थित 28 हल्का के ग्रामीणों को स्थानीय स्तर पर सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जाति प्रमाण-पत्र, आय, निवास, जाति सहित विभिन्न दस्तावेजों के लिए ग्रामीणों को 25 से 35 किलोमीटर दूर तहसील मुख्यालय कुरूद जाना नहीं पड़ेगा।

    तहसीलदार भखारा ने बताया कि भखारा को 14 नवंबर 1995 में उपतहसील का दर्जा दिया गया था, उस समय 51 ग्राम, 20 पटवारी हल्का, दो राजस्व निरीक्षक मण्डल हुआ करते थे। अब इसे पूर्ण तहसील का दर्जा प्राप्त होने के उपरांत नवस्थापित तहसील के ग्रामों की संख्या 73 तथा पटवारी हल्का की संख्या 28 तथा राजस्व निरीक्षक मण्डल की संख्या छह हो गई है। इसी तरह उपतहसील भखारा अंतर्गत क्रमशः 58 कोटवार तथा 49 पटेल हुआ करते थे, जबकि तहसील बनने के उपरांत अब कोटवारों की संख्या बढ़कर 81 और पटेलों की संख्या 71 हो गई है। उन्होंने बताया कि उपतहसील भखारा में जनसंख्या 81 हजार 151 थी जो अब बढ़कर एक लाख 9 हजार 283 हो गई है। इसके अलावा राजस्व क्षेत्रफल 50 हजार 556 हेक्टेयर था, जो अब 28 हजार 483 हेक्टेयर हो गया है। इसी तरह उपतहसील भखारा में खातेदारों की संख्या 22 हजार 692 थी, जिसकी संख्या अब बढ़कर 30 हजार 713 हो गई है। इस प्रकार भखारा का तहसील के तौर पर अस्तिव में आने से क्षेत्र की जनता के समय, श्रम एवं धन की बचत हुई है, वहीं छोटे-छोटे शासकीय कार्यों के निष्पादन के लिए लम्बा फासला तय करने से निजात भी मिली।

    और भी...

  • 10वीं की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, जान-पहचान के एक युवक ने किया रेप

    10वीं की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, जान-पहचान के एक युवक ने किया रेप

    हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले से नाबालिग से रेप का मामला प्रकाश में आया है। लड़की 10वीं की छात्रा बताई जा रही है। दरअसल पीड़ित लड़की अपनी आंसर शीट्स जमा करने स्कूल गई थी। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। बरमाणा थाने में मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के अनुसार, जुखाला क्षेत्र की 10वीं में पढ़ने वाली नाबालिग से जान-पहचान के युवक ने ही दुष्कर्म किया है। आरोप है कि जान-पहचान का एक युवक ने ही नाबालिग से रेप किया है। पीडि़ता ने घर पहुंचकर परिजनों को सारा मामले की जानकारी दी। आपको बता दें कि शुक्रवार को नाबालिग परिजनों के साथ बरमाणा थाना पहुंची। पीड़िता की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आईपीसी और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरु कर दी है।

    क्या है मामला

    दरअसल इस बार कोरोना महामारी की वजह से सभी स्कूलों की परीक्षा ऑनलाइन हुई थी। 14 वर्षीय छात्रा ऑनलाइन परीक्षा के बाद उत्तर पुस्तिकाएं जमा करवाने के लिए वीरवार को स्कूल गई थी। इसी दौरान उसे कार्तिक नामक एक युवक का फोन आया। उक्त युवक ने कुछ समय पहले नाबालिग के घर में बिजली फिटिंग का काम किया था, जिसकी वजह से वह उसे अच्छी तरह से पहचानती थी। युवक ने छात्रा को अपनी मां से मिलाने की बात कहते हुए गसौड़ में बुलाया। जान-पहचान के आधार पर वह गसौड़ पहुंच गई। वहां से आरोपी युवक उसे अपने घर ले गया है।

    पीड़िता ने सुनाई आपबीती

    पीड़िता के अनुसार कार्तिक के घर में उस समय कोई नहीं था। इससे पहले कि वह कुछ समझती, युवक घर का दरवाजा बंद करके उसे अपने कमरे में ले गया और जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया। उसने धमकी भी दी कि यदि इस बारे किसी को बताया तो वह उसे जान से मार देगा। वह किसी तरह अपने घर पहुंची। रात को पीड़िता ने अपनी मां को सारे मामले के बारे में बताया। शुक्रवार को परिजन अपनी बेटी को लेकर बरमाणा थाना पहुंचे। डीएसपी बिलासपुर मुख्यालय संजय शर्मा ने बताया कि छात्रा की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर लिया गया है। मामला दर्ज कार कार्रवाई शुरू कर दी गई है। पुलिस आरोपी की तलाश में जूट गई है।

    और भी...

  • सीमा सुरक्षा बल के जवानों की राष्ट्रसेवा और समर्पण को गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने किया नमन

    सीमा सुरक्षा बल के जवानों की राष्ट्रसेवा और समर्पण को गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने किया नमन

    रायपुर। देश की सम्प्रभुता और सुरक्षा के लिए सरहद पर तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों की राष्ट्रसेवा और समर्पण को गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने नमन किया है। गृहमंत्री ने शुक्रवार को राजधानी के माना में आयोजित बीएसएफ स्थापना दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए। 

    गृहमंत्री साहू ने बीएसएफ के जवानों को उनकी राष्ट्रसेवा, समर्पण के लिए नमन करते हुए कहा कि बीएसएफ को भारतीय क्षेत्रों की ‘‘रक्षा की पहली दीवार‘‘ का कहा जाता है। बीएसएफ ने देश को बचाने और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान नागरिकों की सहायता करने की अपनी प्रतिबद्धता पर अटूट विश्वास करते हुए खुद को एक बहादुर बल के रूप में प्रतिष्ठित किया है। बीएसएफ पर भारत को गर्व है। छत्तीसगढ़ राज्य में भी नक्सल विरोधी अभियान में बी.एस.एफ. की अहम भूमिका है। कार्यक्रम में अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, सीमा सुरक्षा बल के एडीजी एस. एल. थाओसन, विशेष पुलिस महानिदेशक आर के विज एवं अशोक जुनेजा सहित बीएसएफ के अधिकारी उपस्थित रहे।

    उल्लेखनीय है कि भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन युद्धों के बाद, बीएसएफ का गठन एक दिसंबर, 1965 को एक एकीकृत केंद्रीय एजेंसी के रूप में किया गया था, ताकि भारत की सीमाएँ और उससे जुड़े मामलों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। यह दुनिया का सबसे बड़ा सीमा सुरक्षा बल है। 

    और भी...

  • छत्तीसगढ़ में अब 52 लघु वनोपजों की खरीदी समर्थन मूल्य पर, लघुवनोपजों की संख्या 7 से बढ़ाकर 52 की

    छत्तीसगढ़ में अब 52 लघु वनोपजों की खरीदी समर्थन मूल्य पर, लघुवनोपजों की संख्या 7 से बढ़ाकर 52 की

    रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप प्रदेश के वनवासियों के हित को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ में 31 से बढ़ाकर 38 लघु वनोपजों की खरीदी समर्थन मूल्य पर करने के साथ-साथ संघ द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य के अंतर्गत 14 लघु वनोपजों की खरीदी का अहम निर्णय लिया गया है। वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने बताया कि इस तरह छत्तीसगढ़ में लगभग दो वर्ष में समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए लघु वनोपजों की संख्या 7 से बढ़ाकर 52 कर दी गई है। 

    गौरतलब है कि राज्य सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ में निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य के तहत 31 से बढ़ाए गए 38 लघु वनोपजों में से 7 नवीन लघु वनोपज कुसुमी बीज, रीठा फल(सूखा), शिकाकाई फल्ली(सूखा), सतावर जड(सूखा), काजू गुठली, मालकांगनी बीज तथा माहुल पत्ता को शामिल किया गया है। निर्धारित समर्थन मूल्य के अनुसार इनमें कुसुमी बीज 23 रूपए, रीठा फल(सूखा) 14 रूपए, शिकाकाई फल्ली(सूखा) 50 रूपए, सतावर जड(सूखा) 107 रूपए़, काजू गुठली 90 रूपए, मालकांगनी बीज 100 रूपए तथा माहुल पत्ता 15 रूपए प्रति किलोग्राम की दर पर खरीदी की जाएगी। इसी तरह संघ द्वारा समर्थन मूल्य पर 14 लघु वनोपजों पलास (फूल), सफेद मूसली (सूखा), इंद्रजौ, पताल कुम्हड़ा, कुटज, अश्वगंधा, आंवला(कच्चा), सवई घास, कांटा झाडू, तिखुर, बीहन लाख-कुसुमी, बीहन लाख-रंगीनी, बेल (कच्चा) तथा जामुन (कच्चा) की खरीदी की जाएगी।

    इस संबंध में प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ संजय शुक्ला ने बताया कि संघ द्वारा समर्थन मूल्य के अंतर्गत पलास (फूल) की खरीदी प्रति क्ंविटल 1000 रूपए की दर पर की जाएगी। इसी तरह सफेद मूसली (सूखा) 65 हजार रूपए, इंद्रजौ 15 हजार रूपए, पताल कुम्हड़ा 3 हजार रूपए तथा कुटज (छाल) एक हजार 100 रूपए प्रति क्ंविटल की दर पर खरीदी की जाएगी। इसके अलावा अश्वगंधा 32 हजार 500 रूपए, आंवला कच्चा 2 हजार 800 रूपए, सवई घास एक हजार 400 रूपए तथा कांटा झाडू 2 हजार 300 रूपए प्रति क्ंविटल की दर पर खरीदी की जाएगी। इसी तरह तिखुर प्रति क्ंविटल 2 हजार 500 रूपए, बीहन लाख-कुसमी प्रति क्ंविटल 30 हजार रूपए तथा बीहन लाख-रंगीनी प्रति क्ंविटल 22 हजार रूपए की दर पर क्रय की जाएगी। इसके अलावा बेल (कच्चा) एक हजार रूपए तथा जामुन (कच्चा) 2 हजार 300 रूपए प्रति क्ंविटल की दर पर खरीदी की जाएगी।

    छत्तीसगढ़ राज्य में इसके पहले खरीदी की जाने वाली 31 लघु वनोपजों में साल बीज, हर्रा, ईमली बीज सहित, चिरौंजी गुठली, महुआ बीज, कुसुमी लाख, रंगीनी लाख, काल मेघ, बहेड़ा, नागरमोथा, कुल्लू गोंद, पुवाड़, बेल गुदा, शहद तथा फूल झाडू, महुआ फूल (सूखा) की खरीदी की जा रही थी। इसके अलावा जामुन बीज (सूखा), कौंच बीज, धवई फूल (सूखा), करंज बीज, बायबडिंग और आंवला (बीज सहित) तथा फूल ईमली (बीज रहित), गिलोय तथा भेलवा, वन तुलसी बीज, वन जीरा बीज, इमली बीज, बहेड़ा कचरिया, हर्रा कचरिया तथा नीम बीज की खरीदी की जा रही थी। राज्य सरकार द्वारा कुसुमी लाख, रंगीनी लाख और कुल्लू गोंद की खरीदी में समर्थन मूल्य के अलावा अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि भी दी जा रही है।

    और भी...

  • 36 साल पहले दुनिया छोड़ चुके व्यक्ति का लिया गया कोरोना सैंपल, मैसेज देख चौंक गए घर वाले

    36 साल पहले दुनिया छोड़ चुके व्यक्ति का लिया गया कोरोना सैंपल, मैसेज देख चौंक गए घर वाले

    हिमाचल प्रदेश से स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 36 साल पहले दुनिया छोड़ चुके युवक का भी सैंपल ले लिया। स्वास्थ्य विभाग ने इस बात का मैसेज घर वालों के मोबाइल पर भी भेजा। स्वास्थ्य विभाग ने मैसेज में व्यक्ति को आइसोलेट होने की भी हिदायत दे दी और सैंपल जांच के लिए आईजीएमसी शिमला भेजने की भी बात कही। स्वास्थ्य विभाग की इस कार्यप्रणाली देखकर परिवार वाले चौंक गए।

    स्वास्थ्य विभाग की इस कार्यप्रणाली के बाद कोरोना टेस्ट के आंकड़ों पर भी सवाल उठ रहे हैं। जानकारों की माने तो घुमारवीं स्वास्थ्य विभाग की टीम एक दिसंबर को पडयालग पंचायत के गांव बाड़ी में सैंपल लेने के लिए गई थी। यहां गांव के लोगों के सैंपल लिए थे। बाड़ी गांव में पहले एक कोरोना का मामला आने के बाद इस गांव के लोगों के सैंपल लिए गए। इनमें एक परिवार से मदनलाल, उनकी पत्नी और बेटे के भी सैंपल लिए गए। सैंपल लेने के बाद मदनलाल के फोन पर स्वास्थ्य विभाग ने संदेश भेजा, जिसमें मदनलाल के पिता प्रभुराम के सैंपल लेने की बात कही गई।

    मैसेज देखकर परिवार के लोग हैरत में पड़ गए, क्योंकि मदनलाल के पिता प्रभुराम का देहांत हुए 36 साल हो चुके हैं। मदनलाल ने बताया कि शुक्रवार को उसके बेटे की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं परिवार के सैंपल लेने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने उनके मृतक पिता के सैंपल लेने का भी मैसेज उन्हें भेज दिया। इसमें उन्हें आइसोलेट होने की बात कही गई थी। मदनलाल ने स्वास्थ्य विभाग की इस गैरजिम्मेदाराना कार्यप्रणाली पर रोष जताया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग की इस कार्यप्रणाली के बाद गांव में चर्चा का विषय बन गया है।

    और भी...

  • 80 साल की वृद्धा सास को धक्के मारकर उसकी बहू ने निकाला बाहर, वीडियो वायरल

    80 साल की वृद्धा सास को धक्के मारकर उसकी बहू ने निकाला बाहर, वीडियो वायरल

    हिसार। आजाद नगर एरिया में रहने वाली एक 80 साल की वृद्धा को उसकी बहू द्वारा सामान सहित घर से धक्के मारकर उसे बाहर निकालने का वीडियो वायरल हुआ। तेजी से वायरल हुए इस वीडियो को देखते ही हरियाणा महिला आयोग व पुलिस प्रशासन एक्टिव (Active) हो गया। पुलिस ने तुरंत वृद्धा के बयान एफआईआर दर्ज कर ली है और उसकी बहू को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार जो वीडियो वायरल हुआ वह मंगलवार का है।

    जानकारी के अनुसार शुक्रवार की दोपहर बाद सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक बहू शकुंतला देवी ने अपनी वृद्ध सास छन्नौ देवी का सामान गली में फैंक दिया है और ठंड में अपनी सास को भी धक्के मारकर घर से बाहर कर दिया। बुजुर्ग महिला को रो-रोकर बुरा हाल हो चुका था और व मदद की गुहार लगाती दिख रही थी।

    इस दौरान एक व्यक्ति ने मामले का सारा वीडियो अपने मोबाइल में कैप्चर कर लिया। वीडियो में व्यक्ति बुजुर्ग महिला के साथ इस तरह के व्यवहार पर ऐतराज उठाता है तो वह उस व्यक्ति को उल्टा-सीधा कहने लगती है। दुव्यर्वहार करने वाली महिला अपने व अपने परिवार के बारे में भी कोई जानकारी नहीं देती।

    वीडियो में बहू द्वारा मारपीट किए जाने की बात भी वृद्धा कहती दिख रही है। मारपीट करने और अपनी सास को घर से बाहर निकलाने वाली महिला वीडियो बनाने वाले को कह रही है कि पुलिस तो भ्रष्ट हैं, 10 से 100 रुपये में बिक जाती हैं।

    शुक्रवार को वीडियो जैसे ही वायरल हुआ। पुलिस व प्रशासन में हड़कंप मच गया। आजाद नगर थाना प्रभारी रोहताश कुमार खुद मौके पर पहुंचे और उन्होंने बुजुर्ग महिला से मारपीट करने वाली बहू को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि वायरल वीडियो मंगलवार का है।

    वृद्धा की शिकायत पर बहू पर केस दर्ज

    पुलिस को दी शिकायत में छन्नौ देवी ने बताया कि उसके तीन लड़के है और तीनों अलग-अलग मकानों में रहते है। तीनों सरकारी नौकरियों से रिटायर्ड है। वह अपने बेटे भागमल पटवारी के पास रहती थी। भागमल व उसकी पत्नी शकुंतला में अक्सर झगड़ा रहता है और शकुंतला ने भागमल को घर से निकाला हुआ है।

    छन्नौ देवी का आरोप है कि शकुंतला ने पिछले कुछ दिनों से एक कमरे में बंधक बनाया हुआ था और वह खाने पीने के लिए भी नहीं देती थी। मंगलवार को उसने मारपीट कर उसे घर से बाहर निकाल दिया और उसके बिस्तर भी गली में फैंक दिए। घटना के बाद में वृद्धा अपने बेटे सतबीर के यहां ठहरी हुई है।

    और भी...

  • भारत में 96 लाख के पार हुआ कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, पिछले 24 घंटे में मिले 36 हजार से ज्यादा केस

    भारत में 96 लाख के पार हुआ कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, पिछले 24 घंटे में मिले 36 हजार से ज्यादा केस

    देश में कोरोना वायरस की रफ्तार भले ही कम हो गई हो। लेकिन हर रोज देश में कोरोना वायरस के 35 हजार से ज्यादा नये मामले सामने आ रहा हैं। बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के 36 हजार से ज्यादा मामले दर्ज किये गए हैं। इसी के साथ देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 96 लाख के पार हो गई है।

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा जारी किए गए आकड़ों के मुताबिक, देश में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के 36,652 नये केस आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या 96,08,211 हो गई है। जबिक एक दिन में 512 लोगों की मौत हुई है। इसकी के साथ इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या 1,39,700 हो गई है।

    अगर ठीक होने वाले मरीजों की बात की जाए तो अभी तक पूरे देश में 90,58,822 लोग कोरोना वायरस को मात दे चुके हैं। बीते 24 घंटे में 42,533 लोगों ने कोरोना वायरस को मात दी है। वहीं अब देश में एक्टिव मरीजों की संख्या 4,09,689 रह गई है। इनका देश के विभिन्न अस्पतालों में अभी इलाज जारी है।

    चार दिसंबर को किए गए 11,57,763 टेस्ट

    भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक कल यानी 4 दिसंबर तक देश में कोरोना वायरस के लिए कुल 14,58,85,512 सैंपल टेस्ट किए गए हैं। जिनमें से 11,57,763 सैंपल 4 दिसंबर को टेस्ट किए गए हैं।

    और भी...

  • किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किया ट्वीट, पीएम मोदी पर लगाया आरोप

    किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किया ट्वीट, पीएम मोदी पर लगाया आरोप

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में एक बार फिर से ट्वीट किया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया है कि वे कृषि बिल पर किसानों को गुमराह कर रहे हैं।

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि बिहार का किसान MSP-APMC के बिना बेहद मुसीबत में है और अब PM ने पूरे देश को इसी कुएँ में धकेल दिया है। ऐसे में देश के अन्नदाता का साथ देना हमारा कर्तव्य है। इसके साथ ही राहुल गांधी ने एक वीडियो भी शेयर किया है।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि नए कृषि कानूनों के विरोध में आज भी किसानों का प्रदर्शन जारी है। लगातार करीब दस दिन से किसानों का हल्ला बोल जारी है। किसान दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसान डटे हुए हैं। किसान नेताओं और केंद्र सरकार के साथ हुई दो दौर की बातचीत में कोई भी नतीजा नहीं निकला है। किसानों और सरकार के बीच पहली बातचीत 30 नवंबर और दूसरी 3 दिसंबर को हुई थी। लेकिन, हल नहीं निकला।

    बता दें कि कांग्रेस किसानों के आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार को लगातार घेर रही है। राहुल गांधी ने तीन दिसंबर को कहा था कि काले कृषि कानूनों को पूर्ण रूप से रद्द करने से कम कुछ भी स्वीकार करना भारत और उसके किसानों के साथ विश्वासघात होगा। वहीं आज राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि बिहार का किसान MSP-APMC के बिना बेहद मुसीबत में है और अब PM ने पूरे देश को इसी कुएं में धकेल दिया है। ऐसे में देश के अन्नदाता का साथ देना हमारा कर्तव्य है।

    और भी...

  • राज्य महिला आयोग की पहल से चार माह की बच्ची को मिलेगी माँ की गोद

    राज्य महिला आयोग की पहल से चार माह की बच्ची को मिलेगी माँ की गोद

    रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक ने गुरूवार को रायपुर के जलविहार स्थित आयोग कार्यालय में विभिन्न जिलों के महिलाओं के उत्पीड़न संबंधित प्रकरणों पर जन सुनवाई की। प्रस्तुत प्रकरण शारीरिक शोषण, मानसिक प्रताड़ना, दहेज प्रताड़ना, संंपत्ति विवाद आदि से संबंधित थे। एक प्रकरण की सुनवाई करते हुए आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि चार माह की बच्ची को माँ से दूर रखना गलत है। बच्ची की सम्पूर्ण देखभाल के लिए माँ की नितांत आवश्यकता होती है। आयोग की समझाइश पर बच्ची के पिता अगले दिन ही आयोग के समक्ष माँ को सौपने तैयार हो गया।

    एक अन्य प्रकरण में रायपुर निवासी महिला ने अपने बड़े बेटे द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की शिकायत आयोग से की। प्रकरण की सुनवाई करते हुए आयोग की अध्यक्ष डॉ. नायक ने बड़े बेटे को पिता की संपति से हिस्सा लेकर अलग रहने कहा।

    इसी तरह भिलाई में महिला महाविद्यालय की सहायक प्राध्यापिकाओं को प्रबंधन द्वारा समय से पहले सेवानिवृत्त कर प्रताड़ित करने का मामला आयोग के समक्ष आया। प्राध्यापिकाओं को सितंबर माह का वेतन काम करने के बाद भी नही दिया गया है। आयोग की अध्यक्ष ने एक सप्ताह के भीतर वेतन भुगतान करने प्रबंधन को कहा। सुनवाई के दौरान कोरोना संक्रमण को देखते हुए सोसल डिस्टेंसिंग व फिजीकल डिस्टेंसिंग सहित अन्य दिशा-निर्देशों का पालन किया गया।   

    और भी...

  • 'मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान’ अंतर्गत तीन वर्षीय बालिका लवली को मिली कुपोषण से मुक्ति

    'मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान’ अंतर्गत तीन वर्षीय बालिका लवली को मिली कुपोषण से मुक्ति

    जगदलपुर। बस्तर जिले के विकासखण्ड बकावंड के आदिवासी बाहुल्य ग्राम मंसगांव विकासखण्ड मुख्यालय से 12 किमी की दूरी पर स्थित है। ग्राम में अशिक्षा, नशा, बच्चों एवं महिलाओं में कुपोषण एक गंभीर समस्या रही है। राज्य शासन द्वारा बच्चों एवं महिलाओं में कुपोषण को दूर करने एवं महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने हेतु मंसगांव में वर्ष 1997 से आंगनबाड़ी केन्द्र का संचालन प्रारंभ किया। इसी दिशा में एक कदम बढ़ाते हुए राज्य शासन की महती योजना मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान का संचालन 2 अक्टूबर 2019 से सेक्टर सरगीपाल में लागू किया गया। परियोजना अधिकारी और सेक्टर सुपरवाईजर के मार्गदर्शन में आंगनबाड़ी केन्द्र मंसगांव की कार्यकर्ता फूलमती बघेल द्वारा केन्द्र के समस्त कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर ’’मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान” का लाभ दिया जा रहा है। आंगनबाड़ी केन्द्र मंसगांव के 1 से 3 वर्ष के कुपोषित बच्चों में लछमनी कश्यप की सबसे छोटी बेटी कु. लवली भी है। बालिका लवली की माता मंसगांव के प्राथमिक शाला में रसोईया का काम करती है बालिका की पिता उनके जन्म 27 जुलाई 2018 के सात माह के भीतर स्वर्गवास होने के कारण बच्चों की समस्त देखभाल उनकी माता के कंधों पर आ गई। माता की रसोईया के काम करने के कारण लवली की पोषण में कमी आई और वह 11 माह के उम्र से ही कुपोषण का शिकार हो गई।

    ऐसे में कार्यकर्ता द्वारा लवली को निरंतर केन्द्र में लाकर पोषण आहार दिया गया। लवली को नियमित रूप से पोषण पुर्नवास केन्द्र बकावंड ले जाकर तथा नियमित रूप से चिकित्सीय परामर्श के माध्यम द्वारा उपचार किया गया। समय पर कृमिनाशक औषधि दिया गया। साथ ही नियमित रूप से बालिका की माता को परामर्श देते हुए रेडी-टू-ईट फूड कार्यकर्ता बघेल ने अपने मार्गदर्शन में खिलाया गया। ’’मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान’’ के प्रारंभ होने से लवली को केन्द्र में सप्ताह के अलग-अलग दिनों में गरम भोजन के साथ अण्डा, गुड, मूंगफल्ली, लड्डु और खिचड़ी, पुलाव रोटी, अंकुरित चना एवं स्थानीय उपलब्ध हरी पोषक सब्जी दिया जा रहा है। साथ ही स्वच्छता की ओर विशेष ध्यान दिया गया और कार्यकर्ता तथा सेक्टर सुपरवाइजर द्वारा ग्राम पंचायत के सरपंच जयमनी कश्यप साथ निरंतर प्रयास के फलस्वरूप बालिका के वजन में वृद्धि दर्ज की गई। मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के प्रारंभ होने से कुपोषण के शिकार बालक-बालिका को आशातीत सफलता प्राप्त हो रही है।

    ’’मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान’’ कुपोषण दूर करने की दिशा में मील का पत्थर साबित हो रहा है। कुपोषित बच्चों में वजन में अतिशीघ्र वृद्धि देखी जा रही है। बालिका की माता भी बच्चों की स्वास्थ्य लाभ देखकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ-साथ महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी-कर्मचारी विशेषकर कार्यकर्ता फूलमती बघेल को साधुवाद प्रेषित की गई है। बालिका की माता स्वप्रेरणा लेकर ग्राम के अन्य बच्चों एवं उनकी पालकों को भी प्रोत्साहित कर रही है।

    और भी...

  • कांदिवली में एक ही परिवार के तीन लोगों ने की आत्महत्या, आर्थिक तंगी से परेशान होकर उठाया ये कदम

    कांदिवली में एक ही परिवार के तीन लोगों ने की आत्महत्या, आर्थिक तंगी से परेशान होकर उठाया ये कदम

    मुंबई के कांदिवली इलाके में एक ही परिवार के तीन लोगों ने आत्महत्या कर ली। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आर्थिक तंगी से परेशान होकर एक परिवार ने 3 लोगों ने आत्महत्या कर ली। जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया। इस घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

    पुलिस ने तीनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया है और पुलिस ने घर की तलाशी ली। तलाशी के दौरान पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला है। जांच के लिए पुलिस फॉरेंसिक एक्सपर्ट की भी मदद ले रही है।

    पुलिस ने बताया कि इस आत्महत्या में दो नाबालिग बच्चियां भी हैं। पड़ोसियों से जब इस घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस आनन-फानन में घटनास्थल पर पहुंची। यह परिवार कांदिवली वेस्ट में एक फ्लैट में रहता था। इस फ्लैट के एक ही परिवार के लोगों ने आत्महत्या कर ली। घर का मालिक लोहे के एंगल से लटका हुआ पाया गया।

    इस मामले के संबंध में डीसीपी विशाल ठाकुर ने पत्रकारों से बीतचीत के दौरान बताया कि सुसाइड नोट में परिवार ने आर्थिक तंगी से परेशान होनी की बात लिखी थी। और कुछ बातों को लेकर मदभेद भी चल रहे थे। लेकिन जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ेगी, आत्महत्या करने की सही वजह सामने आ जाएगी। पुलिस मृतकों के पड़ोसियों से पूछताछ कर रही है। लेकिन अभी तक किसी ने तहरीर नहीं दी है।

    और भी...

  • 22 वर्षीय युवती ने एक व्यक्ति पर लगाया बलात्कार का आरोप, आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज

    22 वर्षीय युवती ने एक व्यक्ति पर लगाया बलात्कार का आरोप, आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज

    कोटा। रेप जैसी घिनौनी घटनाओं के लिए बदनाम हो चुके राजस्थान में अब भी दुष्कर्म की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। यहां पिछले कुछ समय में दरिंदे घिनौनी वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। यहां एक और शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। राजस्थान के झालावाड़ जिले के एक गांव में 22 वर्षीय युवती ने एक व्यक्ति पर बलात्कार का आरोप लगाया है। पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि युवती की शिकायत पर बृहस्पतिवार देर रात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

    बता दें की घटोली के थाना प्रभारी अजित चौधरी ने कहा कि युवती ने आरोप लगाया है कि 26 नवंबर को आरोपी ने उसके साथ बलात्कार किया और इस बारे में परिवार को बताने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी। एसएचओ ने कहा कि युवती ने शिकायत में आरोप लगाया कि आरोपी ने उसे कमरे में बंद कर लिया, उसका गला दबाया और उसके साथ बलात्कार किया। युवती के अनुसार उस समय वह घर में अकेली थी। थाना प्रभारी ने कहा कि कथित घटना के एक सप्ताह बाद युवती अपनी मां के साथ पुलिस के पास पहुंची।

    चौधरी ने कहा कि युवती को बृहस्पतिवार को मेडिकल जांच के लिये भेज दिया गया। अगले कुछ दिन में सीआरपीसी की धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष उसका बयान दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मामले की जांच चल रही है। पुलिस ने बताया कि युवती की शिकायत पर बृहस्पतिवार देर रात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

    और भी...

  • हाईकोर्ट में पहली बार देखने को मिला गजब का नजारा, पति और पत्नी एक साथ बने जज

    हाईकोर्ट में पहली बार देखने को मिला गजब का नजारा, पति और पत्नी एक साथ बने जज

    देश के हाईकोर्ट में गजब का नजारा पहली बार देखने को मिला जब इतिहास में पहली बार पति और पत्नी एक साथ जज बने है। ये दिलचस्प घटना मद्रास हाईकोर्ट में देखने को मिला है। अहम बात ये रही है कि पति और पत्नी ने एक ही जज की दिन शपथ ली है। आपको बता दें कि देश के इतिहास में इससे पहले कभी हाईकोर्ट के अंदर ऐसा नजारा देखने को मिला था।

    ये मात्र संयोग की बात है। इन दोनों के नाम जस्टिस मुरली शंकर कुप्पुराजू और जस्टिस तमिलसेल्वी है। दोनों मद्रास में ही रहते है। वहीं, हाईकोर्ट के महाधिवक्ता ने कहा कि मुरली शंकर कुप्पुराजू और जस्टिस तमिलसेल्वी ने अनौखा चमत्कार करके मद्रास हाईकोर्ट के इतिहास में नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया है।

    वहीं उसी दिन मद्रास हाईकोर्ट में इन दोनों पति पत्नी के अलावा 8 और जजों ने शपथ ग्रहण की। लेकिन वहां मौजूद सबकी निगाहें इन दोनों दंपति पर ही टिकी रही। दरअसल, मुरली शंकर कुप्पुराजू और जस्टिस तमिलसेल्वी दोनों पति पत्नी है और देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ होगा की किसी हाईकोर्ट में पति पत्नी ने एक साथ जजशिप की शपथ एक साथ ली होगी।

    फिलहाल न्यायिक इतिहास में ऐसी घटना कभी-कभी ही देखने को मिलती है। गौरतलब हो कि 2019 में पंजाब हाईकोर्ट में जस्टिस विवेक पुरी और जस्टिस अर्चना पुरी ने एक ही दिन शपथ ली थी। ये दोनों भी पति और पत्नी थे। फिलहाल मद्रास हाईकोर्ट की इस घटना की खूब बातचीत हो रही है और साथ ही लोग काफी तारीफ कर रहे है।

    और भी...

  • मौद्रिक समीक्षा बैठक में फिर मुख्य ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, लगातार तीसरी बार लिया फैसला

    मौद्रिक समीक्षा बैठक में फिर मुख्य ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, लगातार तीसरी बार लिया फैसला

    नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को जानकारी दी कि मौद्रिक नीति समिति ने एकमत से पॉलिसी रेपो रेट को बिना किसी फेरबदल के 4 प्रतिशत रखने के लिए वोट किया। एमएसएफ रेट और बैंक रेट बिना किसी बदलाव के साथ 4.25 फीसदी है और रिवर्स रेपो रेट बिना किसी बदलाव के साथ 3.35 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि हम सुनिश्चित करेंगे कि अर्थव्यवस्था में पर्याप्त नकदी उपलब्ध हो, जरूरत पड़ने पर आवश्यक कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार दिख रहा है, और क्षेत्र भी सुधार की राह पर लौट रहे हैं। रिजवै बैंक ने कहा कि वाणिज्यिक बैंक 2019-20 के लिये लाभांश का भुगतान नहीं करेंगे।

    भारतीय रिजर्व बैंक की दिसंबर की मौद्रिक समीक्षा बैठक में एक बार फिर मुख्य ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया। यह फैसला खुदरा महंगाई के उच्च स्तर को देखते हुए लिया गया है। खुदरा मुद्रास्फीति इस समय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है। यह लगातार तीसरी बार है, जब भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली 6 सदस्यों की मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट को जस का तस छोड़ा है। रेपो रेट 4 फीसद, रिवर्स रेपो रेट 3.35 फीसद, कैश रिजर्व रेशियो 3 फीसद और बैंक रेट 4.25 फीसदी के स्तर पर बरकरार हैं।

    और भी...

  • पहले ही प्रयास में किसान का बेटा नेट की परीक्षा में पास, गुरुजनों व माता-पिता को दिया सफलता का श्रेय

    पहले ही प्रयास में किसान का बेटा नेट की परीक्षा में पास, गुरुजनों व माता-पिता को दिया सफलता का श्रेय

    राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा में किसान के बेटे ने पहले ही प्रयास में कंप्यूटर साइंस में नेट की परीक्षा उत्तीर्ण की हैं। गांव गणियार निवासी प्रवीण कुमार पुत्र रतन सिंह ने कंप्यूटर साइंस में नेट की परीक्षा पास की हैं।

    जिन्होंने इस सफलता का श्रेय अपने गुरुजनों व माता-पिता को दिया हैं। प्रवीण कुमार ने अटेली कॉलेज से बीसीए पास की हैं। इस सफलता पर गांव के युवा प्रतिपाल, संजीव कुमार, बाबू बनवारी लाल, अरविंद सरपंच, चेतन देव, निहाल मास्टर, विक्रम सेठ आदि ने बधाई दी हैं।

    वहीं गांव गढ़ी की बेटी ने अंग्रेजी विषय में नेट के साथ जेआरएफ फै लोशिप हासिल किया हैं। लालाराम हैडमास्टर की बेटी अंशु यादव पत्नी जयपाल यादव ने अंग्रेजी विषय में नेट के साथ जेआरएफ हासिल किया हैं। अंशु यादव के ससुर जगदीश यादव चंपा देवी स्कूल में अर्थशास्त्र के लंबे समय तक प्रवक्ता रहे हैं। अंशु ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गढ़ी से 12वीं की कक्षा उत्तीर्ण की हैं। अंशु के ससुराल मामडि़या अहीर में भी खुशी का माहौल हैं। उनकी सफलता पर गढ़ी स्कूल के प्राचार्य देवेंद्र कुमार, प्रवक्ता नरेंद्र कुमार आदि ने बधाई दी।

    और भी...