ब्रेकिंग न्यूज़
  • जम्मू कश्मीर के पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान जैश का आतंकी ढेर
  • Delhi Air Pollution: दिल्ली में वायु प्रदूषण से मिली थोड़ी राहत, AQI में आई थोड़ी सी गिरावट
  • Breaking: गोवा में MiG-29K फाइटर एयरक्राफ्ट क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित
  • भीमा कोरेगांव विवाद: पुणे कोर्ट से सभी आरोपियों को दिया बड़ा झटका, जमानत याचिका की खारिज
  • भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण

दुनिया

  • इस देश में होती है सिर्फ 40 मिनट की रात, सुंदर वादियों के लिए भी है पूरी दुनिया में मशहूर

    इस देश में होती है सिर्फ 40 मिनट की रात, सुंदर वादियों के लिए भी है पूरी दुनिया में मशहूर

    दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो अपनी अलग-अलग खूबियों के लिए काफी फैमस हैं। वहीं आपको बता दें कि दुनिया में एक ऐसा भी देश है, जहां सिर्फ कुछ मिनटों की रात होती है। जहां इंसान को दिनभर थककर रात सोने के लिए 8-9 घंटों की रात भी छोटी लगती है। वहां एक ऐसा देश है जहां सिर्फ 40 मिनट की रात होती है। इसी बीच आज हम आपको इससे जुड़ी तमाम जानकारी देने जा रहे हैं।

    यहां ढाई महीने तक सूरज छिपता नहीं है

    इस शहर का नाम है नॉर्वे का हेमरफेस्ट। यहां 12 बजे रात होती है। यहां सूरज रात 12 बजकर 43 मिनट पर छिपता है और चालीस मिनट के अंतराल पर उग आता है। करीब डेढ़ बजे यहां चिड़िया चहचहाने लगती हैं। इतना ही नहीं यहां ढाई महीने तक सूरज छिपता नहीं है। इस कारण इसे 'कंट्री ऑफ मिडनाइट सन' भी कहते हैं। आपको बता दें कि मई से जुलाई के बीच तकरीबन 76 दिनों तक यहां सूरज नहीं डूबता हैं।

    यहां की खूबसूरती किसी का भी दिल मोह सकती है

    आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूर्व दिशा में नार्वे की सीमा स्वीडन से लगी हुई है। वहीं अगर उत्तर की बात करें तो इस देश की सीमा फिनलैण्ड और रूस के बॉर्डर से मिलती है। इसके साथ ही नॉर्वे अपनी सुंदर वादियों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है। यहां की खूबसूरती किसी का भी दिल मोह सकती है। यह देश दुनिया के अमीर मुल्कों में से एक है। यहां के लोग अपनी हेल्थ के साथ जरा भी कॉम्प्रोमाइज नहीं करते हैं।

    और भी...

  • पाकिस्तान में बड़ा विमान हादसा, लैंडिंग से पहले क्रैश हुआ विमान

    पाकिस्तान में बड़ा विमान हादसा, लैंडिंग से पहले क्रैश हुआ विमान

    पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) की फ्लाइट आज कराची एयरपोर्ट के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई है। बताया जा रहा है कि पीआईए की फ्लाइट लाहौर से कराची जा रही थी। इसी दौरान कराची एयरपोर्ट के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई है। पाकिस्तानी मीडिया ने इस बात की जानकारी दी है।

    खबरों से मिली जानाकरी के मुताबिक, PIA विमान एयरबस 320 कराची मॉडल कॉलोनी के पास क्रैश हुआ है। इस विमान में 100 से ज्यादा यात्री सवार बताए जा रहे हैं। जबकि इस घटना में लगभग 90 लोगों के मरने की आशंका जताई जा रही है।

    No photo description available.

    Image may contain: text

    कथित तौर पर, घटना में चार घरों के क्षतिग्रस्त होने की भी खबर है। जानकारी मिलते ही तत्काल घटनास्थल पर सेना, रेंजर्स और पुलिस इकाइयां पहुंच गई हैं। जिन्ना अस्पताल में आपातकाल घोषित कर दिया गया है। कथित तौर पर दो घायल व्यक्तियों को अस्पताल में ट्रंसाफर कर दिया गया है।

    और भी...

  • अमेरिका में 24 घंटे में कोरोना से 1,568 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 13 लाख 47 हजार के पार

    अमेरिका में 24 घंटे में कोरोना से 1,568 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 13 लाख 47 हजार के पार

    Coronavirus: चीन के वूहान से शुरू हुए कोरोना वायरस का असर सबसे ज्यादा अमेरिका में ही देखने को मिल रहा है। यहां बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस से 1,568 मौतें हुईं हैं। समाचार एजेंसी एएनआई से मिली जानकारी के अनुसार, जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक अमेरिका में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से 1,568 मौतें हुईं हैं। इसके बाद अमेरिका में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा बढ़कर 78,746 हो गया है।

    अमेरिका में 1347309 पहुंचे केस

    आपको बता दें कि अमेरिका इस समय कोरोना वायरस महामारी से दुनिया में सबसे अधिक प्रभावित होने वाला देश है। खबर लिखे जाने तक यहां पर कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 13 लाख 47 हजार 309 (1347309) पहुंच गई है। जबकि इसमें 1029194 एक्टिव हैं और 238078 मरीज ठीक हो चुके हैं।

    पूरी दुनिया में 41 लाख 788 के सामने आये

    बता दें कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 4,100,788 पहुंच गई है। जिसमें 23 लाख 78 हजार 878 एक्टिव हैं। जबकि 1441478 मरीज ठीक हो चुके हैं और 280,432 मरीजों की मौत हो चुकी है।

    भारत में 62 हजार के पार पहुंचा आंकड़ा

    भारत में कोरोना वायरस सामुदायिक संक्रमण की स्टेज में पहुंच गया है। भारत के कई शहरों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। मुंबई, चेन्नई और अहमदाबाद में 26 राज्यों से अधिक मामले आ चुके हैं। तीनों शहरों 21729 लोग कोरोना वायरस की चपेट में हैं। जबकि पूरे देशभर में अभी तक 62808 लोग बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। भारत में रोजाना औसतन 3 हजार से अधिक मामले आ रहे हैं।

    9 मई को 2894 मामले आए हैं जबकि दिल्ली सरकार की तरफ से आंकड़े अभी तक जारी नहीं किए गए हैं। भारत में अभी तक 62808 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 19301 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं जबकि 41402 संक्रमितों का अस्पतालों में उपचार चल रहा है। देशभर में 2101 लोगों की कोरोना वायरस महामारी से मौत हो चुकी है।

    और भी...

  • पाकिस्तान एयरफोर्स के पहले हिंदू पायलट बने राहुल देव, रवि दवानी ने जताई खुशी

    पाकिस्तान एयरफोर्स के पहले हिंदू पायलट बने राहुल देव, रवि दवानी ने जताई खुशी

    पाकिस्तान में सिंध इलाके के थरपरकर के रहने वाले राहुल देव पाकिस्तान एयरफोर्स के पहले हिंदू पायलट बन गए हैं। बताया जा रहा है कि राहुल देव पाक एयरफोर्स में पहले हिंदू होंगे। क्योंकि राहुल से पहले एयर कमोडोर बलवंत कुमार दास पाकिस्तानी एयरफोर्स में भर्ती हुए थे। लेकिन बलवंत कुमार दास पाकिस्तानी एयरफोर्स में एयर डिफेंस का हिस्सा था, जिसके जिम्मे ग्राउंड ड्यूटी से जुड़े काम होते थे।

    मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के मुताबिक, राहुल देव पाकिस्तानी एयरफोर्स में बतौर जीडीपी पायलट भर्ती हुए थे। पाकिस्तानी एयरफोर्स में जीडी पायलट को अहम माना जाता है क्योंकि वह अधिक ताकतवर एयरक्राफ्ट उड़ता है।

    राहुल देव इस खबर के प्रिंसिपल स्टाफ ऑफिसर रफिक अहमद खोकर ने जासूस से राजनेता बने इंटीरियर मिनिस्टर रिटायर्ड ब्रिगेडियर एजाज शाह से ट्वीट के जरिए शेयर की थी।

    रवि दवानी ने जताई खुशी

    राहुल देव के पायलट चुने जाने पर ऑल पाकिस्‍तान हिंदू पंचायत सेक्रटरी रवि दवानी ने खुशी जताई है। उनका कहना है कि अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के लोग सिविल सर्विसेज और पाकिस्‍तानी सेना में सेवा दे रहे हैं। इसके अलावा पाकिस्तान में कई हिंदू डॉक्टर भी हैं। यदि पाकिस्तान सरकार अल्‍पसंख्‍यकों पर अपना ध्‍यान बनाए रखती है तो आने वाले दिनों में राहुल देव अपने देश की सेवा के लिए तैयार हो जाएंगे। राहुल के परिवार में भी इस खबर के बाद खुशी की लहर दौड़ गई है।

    और भी...

  • विश्वव्यापी लॉकडाउन ओजोन परत के लिए लाभकारी सिद्ध, नुकसान करने वाली गैसों का नहीं हो रहा उत्सर्जन

    विश्वव्यापी लॉकडाउन ओजोन परत के लिए लाभकारी सिद्ध, नुकसान करने वाली गैसों का नहीं हो रहा उत्सर्जन

    ओजोन परत सूर्य से आने वाली परावैंगनी किरणों को पृथ्वी पर आने से रोकती है। यह मानव के लिए एक रक्षा कवच की तरह काम करती है। ऐसा माना जाता है कि जब से पर्यावरण में ओजोन परत का निर्माण हुआ है तभी से इस पृथ्वी पर जीवों की उत्पत्ति हुई है। यह ओजोन परत पर्यावरण के क्षोभ मण्डल में और कुछ समताप मण्डल में पायी जाती है। जो अन्तरिक्ष में लगभग 35 से 50 किलोमीटर की दूरी तक फैली हुई है।

    यह परत सूर्य की हानिकारक किरणों को पृथ्वी पर आने से रोकती है। यदि ये सूर्य की किरणें पृथ्वी पर सीधी आने लग जायेंगी तो पृथ्वी पर ऑक्सीजन खत्म हो जायेगी तापमान की मात्रा बढ जाएगी जो सजीव प्राणीयों के लिए सहना असम्भव होगा। पेड पौधे सूख जाएंगे। मानव कई असाध्य वीमारी जैसे कैंसर आदि से ग्रसित हो जायेगा। इस प्रकार भूमण्डल से जीवन खत्म हो जायेगा।

    ओजोन क्या है?

    ओजोन एक गैस है यह नीले रंग की होती है। यह ऑक्सीजन का ही रूप है। जो क्षोभमण्डल और समताप मण्डल के बीच में पायी जाती है।

    ओजोन परत को नुकसान पहुचाने वाली गैसें

    ओजोन परत को कारखानों से निकलने वाली सभी गैसें नुकसान पहुंचाती हैं। ओजोन परत को मुख्य रूप से प्रशीतकों से जैसे एसी, फ्रिज आदि से निकलने वाली क्लोरो फ्लोरो कार्बन गैस भारी मात्रा में नुकसान पहुँचाती है।

    क्षोभमण्डल को हानि

    मानव अपनी आवश्यकताओं की पू्र्ति करने के लिए और भौतिक सुख सुविधाएं जुटाने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्य कर रहा है जो प्रकृति को भारी मात्रा में हानि पहुचा रहा है। मानव निर्मित कल कारखाने, यातायात के साधन, आदि से निकलने वाली कार्बनडाई ऑक्साइड गैस और विभिन्न प्रकार की पर्यावरण को दूषित करने वाली गैस क्षोभमण्डल में स्थित ओजोन परत को भारी मात्रा में नुकसान पहुचाती है। जिससे ओजोन परत में वहूत बडा छिद्र हो गया है। जो भविष्य में भूमण्डल के लिए वहुत बडा खतरा है।

    विश्व व्यापी लॅाक डाउन का ओजोन परत पर प्रभाव

    सम्पूर्ण विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है। सारा संसार इस महामारी की वजह से लगभग 50 दिन से बंद है। इस लॅाकडाउन में सभी कारखाने, यातायात के साधन पूरी तरह बंद हैं। कारखानों और यातायात के साधनों के बंद होने के कारण पर्यावरण में दूषित गैसों का प्रसारण भी बंद है। जो मानव और प्रकृति के लिए विशेष लाभकारी सिद्ध हुआ है। दूषित गैसों के कारण ओजोन परत में उत्तरी ध्रुव पर इतिहास का सबसे बडा छिद्र होना बताया जा रहा था लेकिन कोरोना महामारी की वजह से चल रहा विश्व व्यापी लॅाकडाउन ओजोन परत के लिए लाभकारी सिद्ध हो रहा है क्योंकि लॅाकडाउन की वजह से ओजोन परत को नुकसान पहुचाने वाली गैसों का उत्सर्जन नहीं हो रहा है। ऐसा बताया जा है रहा है कि ओजोन परत का छिद्र लगातार घट रहा है।

    और भी...

  • एमबीबीएस की पढ़ाई करने युक्रेन गए 300 से ज्यादा छात्र- छात्राओं ने PM Modi से लगाई मदद की गुहार

    एमबीबीएस की पढ़ाई करने युक्रेन गए 300 से ज्यादा छात्र- छात्राओं ने PM Modi से लगाई मदद की गुहार

    दुनियाभर के देश कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे हैं। इसी कारण कई देशों के नागरिक अन्य देशों में फंसे हुए हैं। सबसे ज्यादा संकट प्रवासी मजदूरों और छात्रों के लिए हैं। हालांकि कई देश, राज्यों से अपने-अपने छात्रों को वापस अपने देश ला रहे हैं।

    इस बीच युक्रेन से भी एक खबर आई है कि वहां फंसे छात्रों ने अपने देश लौटने के लिए पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर मदद की गुहार लगाई है। यह सभी छात्र एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए युक्रेन गए हैं। छात्रों ने बताया कि यूक्रेन के इवानो फ्रंकीव्स्क शहर में करीब 300 से ज्यादा छात्र- छात्राओं अलग-अलग जगहों पर फंसे हुए हैं।

    कोरोना महामारी के चलते यहां लॉकडाउन चल रहा है। इस कारण खाने से लेकर राशन तक के दुकाने बंद पड़े हुए हैं। ऐसे में सभी लोगों को खाने के लिए काफी किल्लत झेलनी पड़ रही है। छात्रों ने भारतीय एंबेसी को भी चिट्ठी लिखकर मदद की गुहार लगाई, लेकिन अभी तक कोई भी मदद की राहत नहीं मिली है।

    इसके चलते छात्रों ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर मदद मांगी है। एक मीडिया से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए बातचीत के दौरान पंवार ने बताया कि इवानो फ्रंकीव्स्क यूनिवर्सिटी की अतिंम साल की छात्र है। इवानो शहर में करीब 20 लाख से भी ज्यादा आबादी है। यहां के करीब 6000 लोग कोरोना वायरस से पीड़ित है।

    भारत के अलग-अलग राज्यों के करीब 300 छात्र-छात्राओं फंसे हुए हैं। इनमें से कुछ छात्र हॉस्टल में और कुछ छात्र फ्लैटों में रह रहे हैं। सभी के पास पैसे तो हैं, लेकिन राशन की दुकाने बंद होने के चलते छात्रों को खाने के लिए किल्लत हो गई है।

    हालांकि कुछ लोगों का यह भी शिकायत है कि कई बार एटीएम से पैसे नहीं निकलते हैं। दिल्ली की सुनैना, तामिलनाडू के आशिफ खान, सचिन जयप्रकाश, यूपी के सहारनपुर की जिज्ञासा,इलाहाबाद के शांत कुमार आदि ने भी हालात के बारे में जानकारी दी।

    और भी...

  • Coronavirus: भारत में मई तक खत्म होगा 97% केस, दुनिया से खत्म होने में लगेगा दिसंबर तक का वक्त

    Coronavirus: भारत में मई तक खत्म होगा 97% केस, दुनिया से खत्म होने में लगेगा दिसंबर तक का वक्त

    कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनियाभर के लोग दहशत में जी रहे हैं। दुनियाभर में लगातार कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। मीडिया से मिली रिपोर्ट के मुताबिक, दुनियाभर में अब तक कोरोना वायरस के 30 लाख 64 हजार 255 केस सामने आ चुके हैं। जबकि, 2 लाख 11 हजार 537 लोगों की मौत हो चुकी है और 9 लाख 22 हजार 387 लोग ठीक भी हो चुके हैं।

    कोरोना वायरस को रोकने के लिए अनेक देशों में लॉकडाउन जारी है। ताकि कोरोना वायरस को हराया जा सके। लेकिन लोगों के जहन में यह बात भी चल रही है कि इस खतरनाक वायरस से कब मुक्ति मिलेगी और कब लॉकडाउन पूरी तरह से खत्म होगा? लोगों के इन सवलों के बीच कुछ राहत भरी खबर सामने आयी है जिसमें बताया गया है कि किस देश में कब कोरोना वायरस का खात्मा होगा। खबरों की मानें तो यह उम्मीद सिंगापुर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन के शोधकर्ताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ड्रिवेन डाटा एनालिसिस के जरिए दी है।

    शोधकर्ताओं का दावा- भारत में 26 जुलाई को पूरी तरह से खत्म होगा कोरोना वायरस

    सिंगापुर के शोधकर्ताओं के मुताबिक, भारत में 26 जुलाई तक कोरोना वायरस का 100 प्रतिशत खात्मा हो जाएगा। वहीं विश्व में 9 दिसंबर तक कोरोना वायरस का 100 प्रतिशत खात्मा होगा। चलिए जानें हैं भारत समेत अन्य देशों में 100 प्रतिशत कोरोना वायरस का खात्मा कब तक हो पाएगा?

    देश 97 प्रतिशत केस खत्म 99 प्रतिशत केस खत्म 100 प्रतिशत केस खत्म
    भारत  22 मई  1 जून  26 जुलाई 
    अमेरिका  12 मई 24 मई 27 अगस्त
    फ्रांस  6 मई 18 मई 5 अगस्त
    इटली  8 मई 21 मई  25 अगस्त
    स्पेन 4 मई  16 मई 7 अगस्त
    यूके  16 मई 27 मई 14 अगस्त
    दुनिया  30 मई 17 जून 9 दिसंबर

     

    और भी...

  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के फंडिंग पर लगाया रोक, जानिए क्या है वजह

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के फंडिंग पर लगाया रोक, जानिए क्या है वजह

    Coronavirus: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) को दी जाने वाली फंडिंग पर रोक लगा दी है। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डब्ल्यूएचओ के काम से असंतुष्टता जताते हुए इसकी फंडिंग पर रोक लगा दिया है।

    मीडिया से मिली रिपोर्ट के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप का आरोप है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन चीन के प्रभाव में आकर काम कर रहा है। जिसको लेकर राष्ट्रपति ट्रंप ने इसकी फंडिंग पर रोक लगा दी है। यह पहली बार नहीं है, इससे पहले भी अमेरिकी राष्ट्रपति कई बार डब्ल्यूएचओ के कामकाज को लेकर सवाल उठा चुके हैं।

    आपको बता दें कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को घोषणा की थी कि अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसी ने गलतियां कीं हैं, जिसके कारण इतनी मौतें हुई है दुनिया भर में कोरोना वायरस फैल गया है। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि आज मैं अपने प्रशासन को विश्व स्वास्थ्य संगठन के वित्त पोषण को रोकने का निर्देश दे रहा हूं, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन की गंभीर रूप से गलत पहचान और कोरोना वायरस के प्रसार की भूमिका का आकलन करने के लिए एक समीक्षा आयोजित की जाती है।

    बात दे कि ट्रंप ने प्रकोप के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसी की प्रतिक्रिया की आलोचना करते हुए कहा कि डब्लूएचओ के सबसे खतरनाक और महंगे फैसलों में से एक चीन और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंधों का विरोध करने का अपना विनाशकारी निर्णय था, जो कि ट्रंप ने प्रकोप पर जल्दी लगाया।

    ट्रंप ने कहा कि सौभाग्य से मैं चीन की यात्रा से आश्वस्त और निलंबित नहीं था। जिससे कई लोगों की जान बच गई। यह स्पष्ट नहीं है कि ट्रंप डब्ल्यूएचओ के वित्तपोषण को रोकने के लिए किस तंत्र का उपयोग करने का इरादा रखता है, जिसमें से अधिकांश कांग्रेस द्वारा विनियोजित है। राष्ट्रपति के पास आमतौर पर एकतरफा कांग्रेस के वित्त पोषण को पुनर्निर्देशित करने का अधिकार नहीं होता है। ट्रंप के पास एक विकल्प हो सकता है कि वह 1974 के इम्पाउंड कंट्रोल एक्ट के तहत राष्ट्रपति को दी गई शक्तियों का उपयोग करें।

    और भी...

  • कोरोना वायरस के बाद चीन में मिला हंटा वायरस, जानिए क्या है हंटा वायरस

    कोरोना वायरस के बाद चीन में मिला हंटा वायरस, जानिए क्या है हंटा वायरस

    Hantavirus: एक खत्म हुआ नहीं है और दूसरा आ गया है। ये इस लिए क्योंकि कोरोना वायरस के बाद चीन में एक और वायरस फैल गया है। जिसका नाम हंता वायरस है। इस वायरस के कारण चीन के एक व्यक्ति की मौत हो गई है। जिसके बाद से ही सोशल मीडिया पर भी लोगों में दहशत का माहौल है।

    क्या है ये वायरस

    हंता नाम का वायरस चूहों में पाया जाता है। इसी वायरस के कारण चूहों में कोई बीमारी नहीं हो पाती है। बताया जा रहा है कि चूहों के पेशाब या थूक के संपर्क में आते ही यह वायरस इंसानों में फैल जाता है। यूनाइटेड स्टेट्स सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशंस की रिपोर्ट में बताया गया है, कि इस वायरस को इस समय सिर्फ चीन और अर्जेंटीना में ही पाया गया है।

    एक व्यक्ति की हुई मौत

    चीन के हूनान में रहने वाला एक व्यक्ति बस से शान्डोंग जा रहा था। तभी बस में वो अचानक गिर पड़ा। लोगों ने देखा तो पता चला कि उस व्यक्ति की मौत हो गई है। जिसके बाद लोगों को शक हो गया कि उसे कोरोना वायरस है।

    जिसके बाद उसकी लाश को अस्पताल लाया गया। जहां जांच में पता लगा कि उस व्यक्ति की मौत कोरोना वायरस की वजह से नहीं, बल्कि हंता वायरस की वजह से हुई है। उसके बाद बस के 32 यात्रियों की जांच की गई। जिसमें कुछ लोग हंटा वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं।

    और भी...

  • कोरोना वायरस का कोहराम, ईरान में 85 हजार कैदियों को किया जेल से रिहा

    कोरोना वायरस का कोहराम, ईरान में 85 हजार कैदियों को किया जेल से रिहा

    Coronavirus: कोरोना वायरस इस वक्त दुनिया के लिए एक बहुत बड़ी मुसिबत बन चुका है। इस वायरस कि वजह से हर दिन कई लोगों के मारे जाने कि खबर भी आ रही है। दुनियाभर में कोरोना वायरस की वजह से अब तक 7 हजार से अधिक लोगों की मौत पहले ही हो गई है। जबकि कोरोना वायरस की चपेट में 1 लाख 80 हजार से ज्यादा लोग हैं। जबकि कोरोना वायरस की चपेट में इस वक्त 1 लाख 80 हजार से ज्यादा लोग हैं।

    बता दें कि चीन के बाद कोरोना वायरस का सबसे अधिक असर इटली में देखा जा रहा है। तो वहीं कोरोना वायरस का प्रकोप ईरान में भी बढ़ता नजर आ रहा है। यहां की सराकर ने कोरोना वायरस को लेकर जरूरी कदम भी उठाया है।

    मीडिया के मुताबिक ईरान में 85 हजार कैदियों को रिहा किया गया है। न्यायपालिका के एक प्रवक्ता ने कहा कि देश ने कोरोनो वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए राजनीतिक कैदियों समेत करीब 85 हजार कैदियों को जेल से रिहा कर दिया गया है। इरान में अब तक कोरोना की वजह से करीब 853 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि एक हजार से अधिक लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में हैं।

    पाकिस्तान में भी एक व्यक्ति की मौत

    बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के 130 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं, जबकि तीन लोगों की इस वायरस की वजह से मौत भी हो गई है। तो वहीं पाकिस्तान में कोरोना वायरस के 185 मामले सामने आ चुके हैं और एक व्यक्ति की इस वायरस की वजह से मौत हो चुकी है।

    और भी...

  • Coronavirus : इटली में कोरोना से एक दिन में 49 लोगों की मौत

    Coronavirus : इटली में कोरोना से एक दिन में 49 लोगों की मौत

    CORONAVIRUS: चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। कोरोना वायरस दुनिया के 90 से ज्यादा देशों में तेजी से फैल रहा है। इस वायरस से लगातार लोगों की मौत में इजाफा होता दिख रहा है। दुनिया के कई देशों में इसका असर देखने को मिल रहा है। चीन के बाद साउथ कोरिया और अब इटली में इस वायरस का सबसे अधिक असर देखने को मिला है। 

    बता दें कि बीते शुक्रवार को इटली में कोरोना वायरस से 49 लोगों की मौत हो गई है। ये संख्या अब तक एक दिन में कोरोना वायरस से मरने वालों में से सबसे अधिक संख्या है। इटली में कोरोना वायरस से अबतक कुल 197 लोगों की मौत हो चुकी है। इटली में कोरोना वायरस से संक्रमित अब तक कुल 4,636 मामले सामने आ चुके हैं। जोकि चीन, दक्षिण कोरिया और ईरान के बाद सबसे ज्यादा हैं।

    कोरोना की चपेट में कुल एक लाख लोग

    बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण तीन हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इस संक्रमण की चपेट में एक लाख से अधिक लोग मिले हैं। तो वहीं, ब्रिटेन में भी कोरोना वायरस से एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। और वहीं अमेरिका में भी इस संक्रमण से 14 लोगों की मौत हो चुकी है।

    बता दें कि कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए अमेरिका ने 6.3 बिलियन डालर का फंड जारी किया है। भारत में भी कोरोना से अबतक 31 लोग संक्रमित हो चुके हैं। भारत सरकार भी पूरी तरह से सतर्क है।

    और भी...

  • इवांका ट्रंप ने ट्वीट करके सबकी बोलती बंद की, जानीए क्यों कहा दिलजीत दोसांझ को धन्यवाद

    इवांका ट्रंप ने ट्वीट करके सबकी बोलती बंद की, जानीए क्यों कहा दिलजीत दोसांझ को धन्यवाद

    विश्व कि सबसे बड़ी शक्ति माने जाने वाले देश संयुक्त राज्य अमेरिका का भारत के प्रति दोस्ताना रवैया कई लोगों के लिए ख़ुशी का विषय बना है तो कुछ के लिए यह चिंता का भी विषय है। इसके पीछे का कारण भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का दोस्ताना और मिलनसार व्यक्तित्व है। कुछ दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने परिवार के साथ भारत दौरे पर आए थे। 

    बता दें की भारत से जाने के बाद सोशल मीडिया पर डोनाल्ड ट्रंप के कई मीम बनाए जा रहे हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से ज्यादा तो उनकी बेटी इवांका ट्रंप के फोटोज को फोटोशॉप करके मीम बनाए गए। जब इवांका ने सोशल मीडिया पर अपनी फोटो के साथ उन मीमस को देखा, तब इवांका का जवाब आया जिसने सबकी बोलती बंद कर दी हैं।

    इन फोटोज को देखने के बाद इवांका ट्रंप ने दिया जवाब

    जब इन फोटोज को इवांका ट्रंप ने देखा तो अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करके लिखा है कि मैं भारतीय लोगों की गर्मजोशी की सराहना करत हूं। साथ ही उन्होंने यह भी लिखा कि मैंने कई नए दोस्त बनाएं हैं।

    दिलजीत दोसांझ ने भी किया मीम शेयर

    Twitter पर छबि देखें

    दिलजीत दोसांझ ने भी ऐसी ही एक मीम शेयर किया था जिसमें लिखा था कि पीछे ही पड़ गई, कहती है ताज महल जाना ताज महल जाना...मैं फिर ले ही गया और क्या करता। इसके जवाब में इवांका ने लिखा कि मुझे शानदार ताजमहल पर ले जाने के लिए धन्यवाद। यह एक ऐसा अनुभव था, जिसे मैं कभी नहीं भूलूंगी।

    और भी...

  • सोशल मीडिया ने पाकिस्तान को दी की चेतावनी, बंद हो जाएगा फेसबुक, ट्विटर, और गूगल

    सोशल मीडिया ने पाकिस्तान को दी की चेतावनी, बंद हो जाएगा फेसबुक, ट्विटर, और गूगल

    पाकिस्तान के लिए एक बुरी खबर है। जल्द ही सोशल मीडिया के दिग्गज प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, ट्विटर, और गूगल समेत कई कंपनियों ने पाकिस्तान को अपनी सेवाएं बंद कर देने की धमकी दी है। 

    सोशल मीडिया साइट्स पर सेंसरशिप का कानून पाकिस्तान को अब भारी पड़ने वाला है। इसी के चलते पाकिस्तान के डिजिटल सेंसरशिप कानून को लेकर इन प्लेटफॉर्म्स ने अब पाकिस्तान सरकार को चेतावनी दी है।

    क्या है पाकिस्तान के नए कानून में

    पाकिस्तान में जारी किए गए सोशल मीडिया के लिए नए रेग्युलेशम के कारण इन प्लेटफॉर्म्स को अपनी सेवाएं जारी रखने में दिक्कत हो रही हैं जिसके चलते अब इन कंपनियों को इस्लामाबाद में अपना ऑफिस खोलना होगा। पाकिस्तान में ही डेटा सेंटर भी बनाना होगा। AIC का कहना है कि यूजर्स के डेटा के साथ किसी तरह का समझौता नहीं कर सकते है। क्योंकि ये यूजर्स कि प्रयवसी और फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के खिलाफ होगा। विदेशों में रह रहे पाकिस्तानि लोगों के अकाउंट बंद करने, धार्मिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर संवेदनशीलता का ध्यान भी रखना होगा और ऐसा ना करने और यह का नया कानून तोड़ने पर 50 करोड़ पाकिस्तानी रुपये का जुर्माना भी चुकाना होगा।

    AIC क्या है

    2010 में स्थापित हुई AIC एक इंडस्ट्री एसोसिएशन है और फेसबुक, गूगल, ट्विटर, याहू, ऐपल, अमेज़न और लिंकडिन जैसी इंटरनेट और टेक्नोलॉजी कंपनियां इसकी मेंबरस हैं। AIC ने बयान में कहा है कि नए रेगुलेशन को लेकर हम पूरी तरफ खिलाफ नहीं हैं, पाकिस्तान में पहले से ही कड़े रेगुलेशन हैं। मगर पाक सरकार के इन नए रेग्युलेशन को हम नहीं मानेंगे।

     

    और भी...

  • Coronavirus - 40 से ज्यादा देशों फैल चुका कोरोना, चीन के बाद अब साउथ कोरिया में इतने लोग प्रभावित

    Coronavirus - 40 से ज्यादा देशों फैल चुका कोरोना, चीन के बाद अब साउथ कोरिया में इतने लोग प्रभावित

    Coronavirus - चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने के बाद एक बार फिर बड़ता नजर आ रहा है। पिछले कुछ दिनों में एस मामले में गिरानट की खबर आई थी। लेकीन अब सिर्फ चीन ही नहीं दुनिया के तमाम देशों में कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी तेजी से बढ़ रही है। दुनिया के 40 से ज्यादा देशों में यह वायरस फैल चुका है।

    देश में अब तक 78,824 लोग संक्रमित हो चुके हैं। तो वहीं साउथ कोरिया में 2931 लोग इस बीमारी से पीड़ित हो चुके हैं। बता दें की यहा एक दिन में 594 नए मामले सामने आए हैं। इस वायरस से लगातार लोगों की मौत हो रही है। दुनिया के कई देशों में इसका असर देखा जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि इस वायरस से अब तक कई देश प्रभावित नजर आ रहे हैं...

    चीन- 78,824 लोग प्रभावित और 2,788 की मौतें

    हांगकांग- 94 मामले, 2 की मौत

    मकाओ- 10 मामले

    दक्षिण कोरिया- 2931 लोग प्रभावित, 16 की मौत

    जापान- क्रूज जहाज से 705 सहित 931 मामले, 11 की मौत

    इटली- 650 मामले, 15 मौतें

    ईरान- 388 मामले, 34 मौतें

    सिंगापुर- 98 मामले

    संयुक्त राज्य अमेरिका- 60 मामले

    जर्मनी- 53 मामले

    कुवैत- 45 मामले

    थाईलैंड- 41 मामले

    फ्रांस- 38 मामले, 2 मौतें

    बहरीन- 36 मामले

    ताइवान- 34 मामले, 1 की मौत

    स्पेन- 32 मामले

    मलेशिया- 25 मामले

    ऑस्ट्रेलिया- 23 मामले

    संयुक्त अरब अमीरात- 19 मामले

    यूनाइटेड किंगडम- 19 मामले

    वियतनाम- 16 मामले

    कनाडा- 14 मामले

    स्वीडन- 7 मामले

    इराक- 6 मामले

    ओमान- 6 मामले

    रूस- 5 मामले

    क्रोएशिया- 5 मामले

    स्विट्जरलैंड- 5 मामले

    इज़राइल- 4 मामले

    ग्रीस- 4 मामले

    फिलीपींस- 3 मामले, 1 की मौत

    भारत- 3 मामले

    लेबनान- 3 मामले

    रोमानिया- 3 मामले

    पाकिस्तान- 2 मामले

    फिनलैंड- 2 मामले

    ऑस्ट्रिया- 2 मामले

    नीदरलैंड- 2 मामले

    जॉर्जिया- 2 मामले

    मेक्सिको- 2 मामले

    मिस्र- 1 मामला

    अल्जीरिया- 1 मामला

    अफगानिस्तान- 1 मामला

    उत्तर मैसेडोनिया- 1 मामला

    एस्टोनिया- 1 मामला

    लिथुआनिया- 1 मामला

    बेल्जियम- 1 मामला

    बेलारूस- 1 मामला

    नेपाल- 1 मामला

    श्रीलंका- 1 मामला

    कंबोडिया- 1 मामला

    नॉर्वे- 1 मामला

    डेनमार्क- 1 मामला

    ब्राजील- 1 मामला

    न्यूजीलैंड- 1 मामला

    नाइजीरिया- 1 मामला

    अजरबैजान- 1 मामला

    और भी...

  • Coronavirus Outbreak || चीन में कोरोना वायरस का कहर, एक दिन में 139 लोगों की मौत

    Coronavirus Outbreak || चीन में कोरोना वायरस का कहर, एक दिन में 139 लोगों की मौत

    कोरोनावायरस ने चीन में विकराल रूप ले लिया है हुबेई प्रांत में कोरोनावायरस के प्रकोप से एक दिन में 139 लोगों की मौत हो गई।

    हुबेई प्रांत में कोरोनावायरस के प्रकोप से 14 फरवरी को मरने वालों की संख्या एक दिन में 139 पहुंच गई। स्वास्थ्य आयोग ने अपने रिपोर्ट में बताया कि दूसरी तरफ 2,420 मामले हुबेई में पाए गए हैं, जो इस प्रकोप का केंद्र है।

    अबतक चीन में इस संक्रमण से कुल 1500 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोनावायरस अबतक की सबसे बड़ी महामारी बताई जा रही है। इनमें 6 मेडिकल कर्मचारी भी शामिल है। स्वास्थ्य आयोग ने 15 फरवरी को अपनी ऑफिशियल वेबसाइट पर इसकी जानकारी दी।

     

    और भी...