ब्रेकिंग न्यूज़
  • शिया वक्फ बोर्ड ने राम मंदिर निर्माण के लिए राम जन्मभूमि न्यास को 51 हजार का चेक दिया
  • बेंगलुरु: कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायक बीजेपी में हुए शामिल

देश

  • राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा- पत्रकार अपने कर्तव्य की रेखा में कई टोपी पहनते हैं

    राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा- पत्रकार अपने कर्तव्य की रेखा में कई टोपी पहनते हैं

    राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बीते सोमवार को कहा कि संयम और जिम्मेदारी के मूल सिद्धांत को इन दिनों मीडिया में पर्याप्त रूप से रेखांकित किया गया है। फर्जी खबरें एक नए खतरे के रूप में सामने आई हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि "ब्रेकिंग न्यूज सिंड्रोम" ने मीडिया को खा लिया है।

    राष्ट्रपति कोविंद ने पत्रकारिता सम्मान समारोह में रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस को संबोधित करते हुए कहा कि ब्रेकिंग न्यूज सिंड्रोम के दिनों में मीडिया ने अब संयम और जिम्मेदारी के इस मूल सिद्धांत को काफी हद तक कम कर दिया है। और फर्जी खबरें एक नया खतरा बनकर सामने आई हैं। जो खुद को पत्रकार घोषित करते हैं और इस नेक पेशे को कलंकित करते हैं।

    राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि पत्रकार अपने कर्तव्य की रेखा में कई टोपी पहनते हैं। पत्रकार एक अन्वेषक, एक अभियोजक और एक न्यायाधीश की भूमिका निभाते हैं। सभी एक में लुढ़के।

    यह सच में पहुंचने के लिए पत्रकारों को एक समय में कई भूमिका निभाने के लिए आंतरिक शक्ति और अविश्वसनीय जुनून की बहुत आवश्यकता होती है। उनकी बहुमुखी प्रतिभा प्रशंसनीय है। लेकिन मुझे यह पूछने के लिए प्रेरित करता है कि क्या इस तरह के एक व्यापक अभ्यास के साथ शक्ति होती है।

    कोविंद ने आगे कहा कि पत्रकारिता पुरस्कारों में रामनाथ गोयनका उत्कृष्टता उन पत्रकारों को सम्मानित करती हैं। जिन्होंने अपने पेशे के उच्चतम मानकों को बनाए रखा है और अपार चुनौतियों के बावजूद भी ऐसे काम का निर्माण किया जो मीडिया में जनता का विश्वास बनाए रखता है और लोगों के जीवन को प्रभावित करता है।

    कोविंद ने बताया कि सत्य की खोज निश्चित रूप से कठिन और आसान काम की तुलना की गई है। लेकिन इसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए। हमारा जैसा लोकतंत्र वास्तव में तथ्यों के उजागर होने और उन पर बहस करने की इच्छा पर निर्भर करता है। लोकतंत्र तभी सार्थक है जब नागरिक अच्छी तरह से हो।

    उन्होंने नई दिल्ली में पत्रकारों को पुरस्कार भी प्रदान किए और सभी विजेताओं को बधाई दी और उनसे आग्रह किया कि वे कभी भी उनकी सच्चाई का पीछा न करें।

    और भी...

  • One Nation One Ration Card Scheme: जानें क्या है 'एक देश एक राशन कार्ड योजना', किसको कैसे मिलेगा लाभ

    One Nation One Ration Card Scheme: जानें क्या है 'एक देश एक राशन कार्ड योजना', किसको कैसे मिलेगा लाभ

    One Nation One Ration Card Scheme: केंद्रीय फूड मंत्री रामविलास पासवान ने केंद्र सरकार की 'वन नेशन वन राशन कार्ड' योजना का ऐलान कर दिया है। पासवान ने कहा कि इस साल 1 जून से पूरे देश में इस योजना को लागू किया जाएगा।

    पासवान ने कहा कि राशन कार्ड के अंतर-राज्य या राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी की सुविधा इस साल 1 जनवरी से 12 राज्यों में मिलनी शुरू हो जाएगी। इस सुविधा को जून के महीने तक आठ और राज्यों में फैला दिया जाएगा।

    इसके अलावा उत्तर पूर्वी राज्यों के कुछ पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर जहां ई-पीओएस (इलेक्ट्रॉनिक पॉइंट ऑफ सेल) डिवाइस का काम नहीं है। राशन कार्ड की अंतर-राज्य या इंट्रा-स्टेट पोर्टेबिलिटी 1 जून से पूरे देश में उपलब्ध होगी।

    जानें क्या है एक देश एक राशन कार्ड योजना

    केंद्र ने राशन कार्ड के लिए एक मानक प्रारूप तैयार किया है। जिसे 'एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड' का नाम दिया गया है। इस योजना के तहत देश में रहने वाली किसी भी नागरिक का एक ही राशन कार्ड होगा और साथ ही वो कही भी रह रहा होगा उसे वहीं पर राशन उपलब्ध होगा। राज्य सरकारों से नए राशन कार्ड जारी करते समय पैटर्न का पालन करने के लिए कहा है। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी पहल को पायलट आधार पर छह राज्यों के क्लस्टर में लागू किया जा रहा है। यह 1 जून, 2020 से पूरे देश में इस सुविधा को लागू करना चाहता है।

    किसको मिलेगा लाभ

    इस योजना का लाभ देश के उन लोगों को मिलेगा जो इसके दायरे में आते हैं और राशन लेते हैं। वो देश के किसी भी कौन से राशन खरीद सकेंगे। लाभार्थी राशन कार्ड का उपयोग करके देश के किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के तहत अपने सामान खरीद सकता है।

    10 नंबर का होगा कार्ड

    राज्यों को 10 अंकों का राशन कार्ड नंबर जारी किया जाएगा। जिसमें पहले दो अंक राज्य कोड होंगे और अगले दो अंक राशन कार्ड नंबर होंगे। इसके अलावा राशन कार्ड नंबर के साथ एक और दो अंकों के सेट को जोड़ा जाएगा, राशन कार्ड में घर के प्रत्येक सदस्य के लिए अद्वितीय सदस्य आईडी बनाने के लिए आधिकारिक तौर पर जोड़ा। आंकड़ों के अनुसार, 81.35 करोड़ के लक्ष्य के मुकाबले अब तक लगभग 75 करोड़ लाभार्थियों को कवर किया गया है।

    और भी...

  • Delhi Election 2020: BJP ने जारी की दूसरी लिस्ट, केजरीवाल के खिलाफ सुनील यादव को उतारा

    Delhi Election 2020: BJP ने जारी की दूसरी लिस्ट, केजरीवाल के खिलाफ सुनील यादव को उतारा

    दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपनी दूसरी लिस्ट भी जारी कर दी है। इस लिस्ट में पार्टी ने 10 उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतारा है।

    इस बार पार्टी ने नई दिल्ली सीट से अरविंद केजरीवाल के खिलाफ सुनील यादव को उतारा है। वहीं अन्य सीटों की बात करें तो नांगलोई जाट से सुमनलता शौकीन, राजौरी गार्डन से रमेश खन्ना, हरिनगर से तेजेन्द्रपाल बग्गा को उतारा है।

    Twitter पर छबि देखें

    इसके अलावा दिल्ली कैंट मनीष सिंह, नई दिल्ली सुनील यादव, कस्तूरबा नगर से रविंद्र चौधरी, महरौली से कुसुम खत्री, कालकाजी से धर्मवीर सिंह, कृष्णा नगर से अनिल गोयल और शाहदरा से संजय गोयल को पार्टी ने उतारा है।

    वहीं कांग्रेस ने सोमवार को अपनी सात उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की जो दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। पार्टी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल के खिलाफ रोमेश सभरवाल को नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा है।

    Twitter पर छबि देखें

    सात उम्मीदवारों को तिलक नगर, राजिंदर नगर, नई दिल्ली, बदरपुर, कोंडली-एससी, घोंडा और करावल नगर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में उतारा गया है।

    और भी...

  • भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने जेपी नड्डा, चुने गए निर्विरोध

    भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने जेपी नड्डा, चुने गए निर्विरोध

    भारतीय जनता पार्टी को आज अपना नए राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल गया है। बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा को नामांकन भरने के दो घंटे के अंदर ही राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में चुन लिया गया है।

    इसको लेकर अमित शाह ने घोषणा की थी। भाजपा के संगठनात्मक चुनाव के अंतर्गत पार्टी के राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी राधा मोहन सिंह ने जेपी नड्डा को 2019-22 के लिए निर्विरोध भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया।

    भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा औपचारिक रूप से पार्टी प्रमुख के रूप में पदभार संभाला लिया है। इस मौके पर गृह मंत्री अमित शाह के साथ लगभग हर वरिष्ठ नेता साथ आए।

    इस मौके पर अमित शाह, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी सहित वरिष्ठ नेता पार्टी मुख्यालय पहुंचे तो वहीं दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित पार्टी कार्यालय में केंद्रीय मंत्री, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गोवा के सीएम प्रमोद सावंत सहित भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी मौजूद रहे।

    इन नेताओं से रखा था जेपी नड्डा के नाम का प्रस्ताव

    नड्डा का नाम पार्टी के पूर्व प्रमुखों और संसदीय बोर्ड के सदस्यों अमित शाह, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने प्रस्तावित किया था। प्रस्ताव को भाजपा राष्ट्रीय परिषद के अन्य सदस्यों द्वारा जारी किया। इससे पहले भी वो भाजपा पार्टी के प्रमुख पदों पर काम कर चुके हैं।

    और भी...

  • Pariksha Pe Charcha 2020: पीएम मोदी का छात्रों को मंत्र, परीक्षा के दौरान इन 5 बातों का रखें ख्याल

    Pariksha Pe Charcha 2020: पीएम मोदी का छात्रों को मंत्र, परीक्षा के दौरान इन 5 बातों का रखें ख्याल

    Pariksha Pe Charcha 2020: फरवरी के अंत से सभी स्कूलों में परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं। उससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के दौरान छात्रों, टीचर्स और अभिभावकों से परीक्षा पे चर्चा की। इस दौरान जहां पीएम मोदी ने छात्रों के परीक्षा वाले डर पर चर्चा की तो वहीं कई ऐसे उदहारण दिए। परीक्षा पे चर्चा के दौरान कई छात्रों ने पीएम मोदी से कई सवाल पूछें, जिसका पीएम मोदी ने जवाब दिया। प्रधानमंत्री ने सभी छात्रों को नए साल पर और नए दशक की शुभकामनाएं दी हैं। जो अभी 10 वीं और 12 वीं कक्षा की परीक्षा देंगे।

    परीक्षा के दौरान इन बातों का रखें छात्र ख्याल...

    1. पीएम मोदी ने छात्रों से टेक्नोलॉजी अपनाने के लिए कहा और बोले कि आप वादा करो कि आप टेक्नोलॉजी फ्री ऑवर जरूर अपने जीवन में लाओगे। आज हर कोई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहा है। टेक्नोलॉजी के जरिए ही दोस्तों को जन्मदिन की बधाई दी जा रही है।

    2. पीएम मोदी ने छात्रों से कहा कि आप रोजाना मोबाइल की डिक्शनरी कम से कम 10 शब्दों के नोट तैयार कीजिए और उनका इस्तेमाल भी कीजिए। तकनीक का डर ठीक नहीं है। प्रौद्योगिकी एक मित्र है। तकनीक का केवल ज्ञान ही काफी नहीं है।

    3. पीएम मोदी ने छात्रों से परीक्षा के दौरान स्मार्टफोन से दूर रहने की सलाह दी। कहा कि स्मार्टफोन आपका वक्त चुरा रहा है। ये समय आप अपने परिवार को दें।

    4. पीएम मोदी ने छात्रों को परीक्षा और पढ़ाई के बोझ में मूड फ्रेश करने के लिए कहा कि और पढ़ाई के साथ कुछ अलग भी कीजिए। इससे आपका मूड और माइंड फ्रेश होगा।

    5. पीएम मोदी ने अभिभावकों के अपील की है कि वो अपने बच्चों पर एक्सट्रा एक्टिविटी के लिए दबाव ना डालें, बच्चे की जिस चीज में रूची है वही करने दें। परीक्षा में अच्छे अंक सब कुछ नहीं हैं, हमें इस सोच से बाहर आना होगा कि सभी परीक्षाएं हैं। हम जीवन के हर पहलू में उत्साह जोड़ सकते हैं। एक अस्थायी झटका का मतलब यह नहीं है कि सफलता इंतजार नहीं कर रही है। वास्तव में, एक झटका मतलब हो सकता है सबसे अच्छा अभी तक आने के लिए है।

    और भी...

  • थोड़ी देर में BJP को मिलेगा आज नया राष्ट्रीय अध्यक्ष, PM Modi और Amit Shah होंगे कार्यक्रम में शामिल

    थोड़ी देर में BJP को मिलेगा आज नया राष्ट्रीय अध्यक्ष, PM Modi और Amit Shah होंगे कार्यक्रम में शामिल

    भारतीय जनता पार्टी को आज अपना नए राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल जाएगा। बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा 20 जनवरी को अपने अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में चुने जाएंगे। इसको लेकर अमित शाह ने घोषणा की थी। भाजपा के वरिष्ठ नेता राधा मोहन सिंह, जो पार्टी की संगठनात्मक चुनाव प्रक्रिया के प्रभारी हैं उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए नामांकन 20 जनवरी को दाखिल किए जाएंगे और एक प्रतियोगिता होगी।

    और भी...

  • JP Nadda Details: जानें कौन हैं जेपी नड्डा, जो होंगे भाजपा के होने वाले नए अध्यक्ष

    JP Nadda Details: जानें कौन हैं जेपी नड्डा, जो होंगे भाजपा के होने वाले नए अध्यक्ष

    भारतीय जनता पार्टी को आज अपना नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल जाएगा। जेपी नड्डा को 20 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी के नए पार्टी प्रमुख के रूप में चुना जाना है। इस दौरान उनकी ताजपोशी के वक्त भाजपा महासचिव और वरिष्ठ नेता पार्टी मुख्यालय में मौजूद रहेंगे। पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। इसके अलावा लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी के भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना है।

    लोकसभा चुनाव में अमित शाह से सांसद बनते ही जेपी नड्डा को भाजपा का कार्यकारी अध्यक्ष घोषित कर दिया गया था। जिसके बाद यही कहा जा रहा है कि जेपी नड्डा ही राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे।

    कौन हैं जेपी नड्डा

    जेपी नड्डा का पुरा नाम जगत प्रकाश नड्डा है। जो भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख नेताओं में से एक हैं। उनका जन्म 2 दिसंबर 1960 को पटना में हुआ। जून 2019 से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हैं। इसके अलावा पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा के सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के संसदीय बोर्ड सचिव है। इतना ही नहीं वो हिमाचल प्रदेश सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। 

    व्यक्तिगत जीवन (Personal Life)

    नड्डा का जन्म 2 दिसंबर 1960 को बिहार की राजधानी पटना में नारायण लाल नड्डा के घर हुआ था। उन्होंने अपनी पढ़ाई पटना के सेंट जेवियर्स स्कूल से की और उसके बाद उन्होंने बी.ए. पटना कॉलेज से की इतना ही नहीं वो एल.एल.बी. के लिए शिमला चले गए। वहीं से अपने करियर की शुरुआत भी की। जेपी नड्डा ने 11 दिसंबर 1991 को मल्लिका नड्डा से शादी की। जिनसे उनको दो बेटे हैं।

    राजनीतिक करियर (Political Career)

    1. साल 1993 के चुनाव में नड्डा पहली बार हिमाचल प्रदेश विधान सभा से चुनाव लड़े और जीते। इसके बाद 1998 में फिर से चुने गए। दूसरे कार्यकाल के दौरान वो स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और संसदीय मामलों के मंत्री बनाए गए।

    2. हिमाचल में ही 2007 के चुनावों में जेपी नड्डा को एक और कार्यकाल के लिए चुना गया। प्रेम कुमार धूमल की सरकार बनाने के बाद वो साल 2008 से 2010 तक वन, पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी जैसे तमाम मंत्रालयों को संभावा और हिमाचल कैबिनेट मंत्री के रूप में नड्डा को अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया गया।

    3. इसके बाद वो 2012 में विधानसभा चुनाव नहीं लड़े बल्कि दिल्ली की तरफ रूख हुआ और भाजपा की तरफ से राज्यसभा के सदस्य चुने गए। इसके बाद वो लगातार 2014 के बाद मोदी सरकार ने बड़ा पद मिला और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नड्डा को स्वास्थ्य मंत्री बनाया। साल 2019 के चुनाव में बड़ी जिम्मेदारी मिली। इसके बाद वो आगे बढ़ते चले गए।

    और भी...

  • हम किसी का धर्म, भाषा या जाति को बदलना नहीं चाहते हैं : मोहन भागवत

    हम किसी का धर्म, भाषा या जाति को बदलना नहीं चाहते हैं : मोहन भागवत

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के चीफ मोहन भागवत ने रविवार को बयान दिया है कि जब आरएसएस के कार्यकर्ता कहते हैं कि यह देश हिंदुओं का है और 130 करोड़ लोग हिंदू हैं, तो इसका मतलब यह नहीं है कि हम किसी का धर्म, भाषा या जाति को बदलना चाहते हैं। हमे संविधान की तुलना में कोई पावर सेंटर नहीं चाहिए हम इसपर विश्वास करते हैं।

    हमें भावनात्मक एकीकरण लाने की कोशिश करनी चाहिए

    संविधान कहता है कि हमें भावनात्मक एकीकरण लाने की कोशिश करनी चाहिए। लेकिन भावना क्या है? वो भावना है- यह देश हमारा है, हम अपने महान पूर्वजों के वंशज हैं और हमें अपनी विविधता के बावजूद एक साथ रहना होगा। इसे ही हम हिंदुत्व कहते हैं।

    हम अपनी आंकाशा में एक हैं

    मोहन भागवत ने आगे कहा कि हम अपने पंत से, नामों से, भाषा से, जाति उपजाति से, प्रांतो से एकदम अलग होंगे भी तो भी हम अपने पहचान से एक है, हम अपनी संस्कृति से एक हैं, हम अपनी आंकाशा में एक हैं और हम अपने भूतकाल में भी एक हैं।

    और भी...

  • जानें आखिर शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर क्या है विवाद, इन 5 प्वाइंट से समझे पूरी कहानी

    जानें आखिर शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर क्या है विवाद, इन 5 प्वाइंट से समझे पूरी कहानी

    महाराष्ट्र के शिरडी में साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे के बयान के बाद विवाद बढ़ गया है। सीएम ठाकरे के बयान के बाद यहां स्थानीय लोगों ने शिरडी बंद करने का ऐलान किया है। लेकिन साईं बाबा का मंदिर खुला रहेगा।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय लोगों ने साईंबाबा के जन्मस्थान के विवाद पर रविवार को महाराष्ट्र के शिरडी के मंदिर शहर में बंद का आह्वान किया है। लेकिन ट्रस्टियों ने कहा कि शहर में साईंबाबा का मंदिर खुला रहेगा।

    सीएम उद्धव ठाकरे के एक बयान के बाद शिरडी शहर में आज बंद का ऐलान किया है। जिसके बाद आज इलाके की सभी दुकानें बंद रहेंगी। सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। सीएम उद्धव ने पाथरी को साईं बाबा का जन्मस्थान बता दिया था।

    5 प्वाइंट में समझे पूरी कहानी

    1. सीएम उद्धव ने पाथरी को साईं बाबा का जन्मस्थान बता दिया था। जिसके बाद ट्रस्टियों और स्थानीय लोगों ने सीएम उद्धव के इस बयान का जमकर विरोध किया है।

    2. कुछ लोगों को मानना है कि साईं बाबा के जन्मस्थान के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। ऐसे में पथरी कैसे साईं का जन्मस्थान हो सकता है।

    3. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और शिरडी के विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि हम इस बयान का विरोध रविवार को करेंगे। अगर कोई समाधान नहीं निकलता है, तो हम अनिश्चितकालीन बंद में जाएंगे।

    4. यह मुद्दा पहली बार 2017 में प्रमुखता से सामने आया था। जब अक्टूबर 2017 में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा था कि साईं बाबा का जन्म पथरी में हुआ था। उद्धव ठाकरे द्वारा सीएम के रूप में कार्यभार संभालने के तुरंत बाद उन्होंने भी यही कहा। उन्होंने पथरी के लिए 100 करोड़ रुपये तक का फंड भी जारी करने का वादा किया।

    5. कहते हैं कि शिरडी मंदिर में 19 वीं सदी के संत साईं बाबा मृत्यु के बाद बनाया गाय। शिरडी में ग्राम सभा की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में रणनीति तय की जाएगी। दूसरी ओर, पथरी में लोग साईंबाबा के जन्मस्थान मंदिर को विकसित करने की भी बात कर रहे हैं। एक लेखक ने दावा किया है कि साईंबाबा के माता-पिता के जन्मस्थान के बारे में तमिलनाडु, गुजरात, यरुशलम (इज़राइल), पथरी सहित 8 से 10 स्थानों से दावे आए हैं।

    और भी...

  • जम्मू कश्मीर: नौशेरा सेक्टर में LoC पर पाक की तरफ से फायरिंग और शेलिंग

    जम्मू कश्मीर: नौशेरा सेक्टर में LoC पर पाक की तरफ से फायरिंग और शेलिंग

    जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में एक बार पिर पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग की खबर है। नौशेरा सेक्टर में फायरिंग और शेलिंग हो रही है।

    एलओसी से सटे होने की वजह से यहां के रहने वाले लोगों को शेलिंग की वजह से काफी परेशानियों का सामने करना पड़ता है। फिलहाल, सेना इस नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब दे रही है।

    वहीं इससे पहले भी नौशेरा सेक्टर में आए दिन इस तरह की खबरे आती रहती हैं। नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन भी कई बार किया जाता है। इस दौरान होने वाली गोलाबारी में स्थानीय लोगों को काफी नुकसान होता है।

    और भी...

  • निर्भया फैसले के बाद गांधी नगर में 5 साल की बच्ची से गैंगरेप केस में आज आएगा फैसला, जानें पूरा मामला

    निर्भया फैसले के बाद गांधी नगर में 5 साल की बच्ची से गैंगरेप केस में आज आएगा फैसला, जानें पूरा मामला

    दिल्ली में साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप मामले के एक साल बाद ही पूर्वी दिल्ली के गांधी नगर में एक 5 साल की बच्ची से गैंगरेप की वारदात ने सभी को हिलाकर रख दिया था। इस मामले पर आज दिल्ली कोर्ट में फैसला सुनाया जाएगा।

    इस फैसले की सुनवाई अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नरेश कुमार मल्होत्रा करेंगे। बीते ने बुधवार को फैसले को स्थगित कर दिया था, जिसके बारे में निर्णय आज दिया जा सकता है।

    इस मामले पक्षकार वकील ने कहा कि निर्भया मामले में एक ट्रायल कोर्ट ने दोषी ठहराया था और 10 महीने की अवधि में चार दोषियों को मौत की सजा सुनाई थी। साल 2013 के सामूहिक बलात्कार मामले में मुकदमे को पूरा करने में छह साल और सात न्यायाधीश और 57 अभियोजन पक्ष के गवाहों को लिया गया।

    पोक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई

    पांच साल की बच्ची से गैंगरेप मामले में दिल्ली पुलिस ने 24 मई 2013 को दोनों आरोपियों- मनोज शाह और प्रदीप कुमार के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था और 11 जुलाई को अदालत ने उनके खिलाफ आरोप तय किए थे। इन सभी के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

    दोनों आरोपियों को बिहार से किया था गिरफ्तार

    इस ममले में दो आरोपी मनोज शाह और प्रदीप कुमार को मुजफ्फरपुर और बिहार के दरभंगा से दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। अपराध करने के बाद दोनों बिहार भाग गए थे। फिलहाल, दोनों अभी जेल में बंद हैं। बच्चे को 40 घंटे बाद 17 अप्रैल 2013 को बचाया गया था।

    दिल्ली हाईकोर्ट में पहुंचा मामला

    पुलिस ने दोनों आरोपियों पर नाबालिग के साथ बलात्कार, अप्राकृतिक अपराध, अपहरण, हत्या का प्रयास, सबूतों को नष्ट करने और आम इरादे के साथ गलत तरीके से बंद करके का आरोप लगाया था। इसके बाद, बलात्कार पीड़िता की मां ने प्रदीप को किशोर घोषित करने के ट्रायल कोर्ट के आदेश के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया। जहां ये मामला चल रहा है।

    और भी...

  • निर्भया रेप केस: चारों दोषियों की फिर एक फरवरी को टल सकती है फांसी, ये है वजह

    निर्भया रेप केस: चारों दोषियों की फिर एक फरवरी को टल सकती है फांसी, ये है वजह

    निर्भया रेप केस में चारों दोषियों को नया डेथ वारंट जारी हो गया है। अब एक फरवरी की सुबह 6 बजे उन्हें फांसी दी जाएगी। लेकिन ऐसे में ये फांस टल सकती है। क्योंकि चारों में से एक दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। जिसमें उसने अपने आप को नाबालिग बताया है। ऐसे में ये कहीं ना कहीं फांसी पर सस्पेंड खड़ा कर सकता है।

    बीते दिन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 2012 में निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले में मृत्युदंड के दोषी मुकेश कुमार सिंह की दया याचिका को खारिज कर दिया था। जिसके कुछ घंटों बाद ही दिल्ली की एक कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी कर दिया। जिसमें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे सभी चार दोषियों कोफांसी तय की गई।

    अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सतीश कुमार अरोड़ा ने भी मुकेश की याचिका पर सुनवाई में देरी पर नाराजगी जताई। न्यायाधीश ने कहा कि सभी चार दोषियों को दया याचिका दायर करने के लिए पर्याप्त समय दिया गया था, लेकिन उनमें से केवल एक ने ऐसा करना पसंद किया।

    राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 2012 के निर्भया गैंगरेप मामले में मौत की सजा पाने वाले मुकेश सिंह की दया याचिका को खारिज कर दी थी। जिसके तुरंत बाद कोर्ट ने शुक्रवार को 1 फरवरी को तिहाड़ जेल में सभी चार दोषियों को फांसी देने के लिए नया डेथ वारंट जारी किया।

    क्या कहता है जेल का नियम

    दिल्ली जेल नियम में कहा गया है कि यदि मौत की सजा एक ही मामले में एक से अधिक व्यक्तियों पर फैसला दिया गया है और यदि अपील या आवेदन केवल एक या एक से अधिक लोगों की ओर से किया जाता है, लेकिन उन सभी को नहीं तो ऐसे सभी व्यक्तियों (मौत की सजा वाले कैदी) के मामले में सजा को स्थगित कर दिया जाता है।

    पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

    निर्भया मामले में याचिका खारिज होते ही दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। याचिका दाखिल कर हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। दोषी पवन कुमार गुप्ता ने दिल्ली हाई कोर्ट में अर्जी दायर कर दावा किया था कि दिसंबर 2012 में घटना के समय वह नाबालिग था। उसकी उम्र 18 वर्ष से कम थी। हालांकि दिल्ली हाई कोर्ट ने दोषी की नाबालिग बताने वाली याचिका को खारिज कर दिया था। वहीं कोर्ट ने दोषी के वकील पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया था।

    दोषियों को 1 फरवरी को होगी फांसी

    दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने शुक्ररवार को निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी कर दिया है। चारो दाषियों को अब एक फरवरी सुबह छह बजे फांस दी जाएगी। बता दें कि दाषियों को पहले 22 जनवरी को फांसी दी जानी थी। कोर्ट को तिहाड़ जेल अधिकारियों ने सूचना दी कि मुकेश की दया याचिका को राष्ट्रपति ने खारिज कर दिया है। इसके बाद कोर्ट ने नया डेथ वॉरंट जारी किया।

    और भी...

  • 1 फरवरी को सुबह 6 बजे निर्भया के दोषियों को दी जाएगी फांसी

    1 फरवरी को सुबह 6 बजे निर्भया के दोषियों को दी जाएगी फांसी

    निर्भया के दोषियों को लेकर आज पटियाला हाउस कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की याचिका पर सुनवाई करने के बाद नया डेथ वारंट जारी कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अब उन्हें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी।

    बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह की दया चाचिका खारिज कर दी है। मुकेश सिंह उन 6 आरोपियों में शामिल था जिन्होंने 2012 में निर्भया गैंगरेप को अंजाम दिया था।

    खबरों की माने तो मुकेश सिंह की दया याचिका की फाइल गुरुवार रात राष्ट्रपति के पास भेजी थी। हाई कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली पटियाला कोर्ट ने चारों आरोपियों को फांसी की सजा दी है उसमे कुछ गलत नहीं है। निर्भया गैंगरेप के चारो आरोपियों को पटियाला कोर्ट ने 22 जनवरी सुबह सात बजे फांसी देने की सजा सुनाई थी।

    निर्भया की मां ने दिया ये बयान

    निर्भया की मां आशा देवी ने कहा है कि जो मुजरिम चाहते थे वहीं हो रहा है। तारीख पे तारीख। हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां दोषी की सुनी जाती है।

    निर्भया के पिता ने किया फैसले का स्वागत

    निर्भया के पिता ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के फैसले को लेकर कहा था कि हमें खुशी है कि उन्हें फांसी के फंदे तक पहुंचाने की संभावना बढ़ गई है। हमें भरोसा है कि जैसे ही वह दया याचिका डालेंगे, उसे फिर से रद्द कर दिया जाएगा। चारों को 22 जनवरी को फांसी दी जानी है।

     

    और भी...

  • भाजपा ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, कपिल मिश्रा को मॉडल टाउन से टिकट

    भाजपा ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, कपिल मिश्रा को मॉडल टाउन से टिकट

    दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 (Delhi Assembly Election 2020) : आम आदमी पार्टी (आप) के बाद भारतीय जनता पार्टी आज अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। भाजपा ने 70 में से 57 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की है। भाजपा ने मॉडल टाउन से कपिल मिश्रा , रोहिणी से विजेंदर गुप्ता , शालीमार बाग से रेखा गुप्ता, चांदनी चौक से सुमन कुमार गुप्ता चुनावी मैदान में उतारा है। भाजपा ने पहली लिस्ट में 4 महिलाओं को भी शामिल किया है। इससे पहले गुरुवार को भाजपा कार्यालय पर हुई बैठक में टिकटों को लेकर केंद्रीय चुनाव समिति ने 3 घंटे तक मंथन किया था।

    लेकिन दिल्ली की सबसे हाई प्रोफाइल माने जाने वाली सीट नई दिल्ली पर सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ भाजपा किस उम्मीदवार को मैदान में उतारेगी, यह देखना दिलचस्प होगा। 

    8 फरवरी को होगा मतदान

    बता दें कि आठ फरवरी 2020 को दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। वहीं वोटों की गिनती 11 फरवरी को होगी। हालांकि, एग्जिट पोल से मालूम हो जाएगी की दिल्ली में इस बार किस पार्टी की सरकार बन रही है।

    लेकिन 11 फरवरी को साफ हो जाएगा की दिल्ली का ताज किसके सिर पर सजेगा। चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद राजनीतिक दलों के नेताओं ने वोटरों को लुभाने का कार्य शुरू कर दिया है। सभी राजनीतिक दलों के नेता चुनाव में जीत हासिल करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं।

     

    और भी...

  • 2012 Nirbhaya Case : नई तारिख के लिए जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार को लिखा पत्र

    2012 Nirbhaya Case : नई तारिख के लिए जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार को लिखा पत्र

    राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह की दया चाचिका खारिज कर दी है। मुकेश सिंह उन 6 आरोपियों में शामिल था जिन्होंने 2012 में निर्भया गैंगरेप को अंजाम दिया था।

    छह में से चार आरोपियों को दिल्ली कोर्ट ने फांसी की सजा दी थी, जबकि 1 आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगा ली थी वहीँ दूसरे नाबालिग आरोपी को सुधारगृह भेज दिया गया था जो अब रिहा हो गया है।

    और भी...