ब्रेकिंग न्यूज़
  • जम्मू कश्मीर के पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान जैश का आतंकी ढेर
  • Delhi Air Pollution: दिल्ली में वायु प्रदूषण से मिली थोड़ी राहत, AQI में आई थोड़ी सी गिरावट
  • Breaking: गोवा में MiG-29K फाइटर एयरक्राफ्ट क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित
  • भीमा कोरेगांव विवाद: पुणे कोर्ट से सभी आरोपियों को दिया बड़ा झटका, जमानत याचिका की खारिज
  • भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण

देश

  • राजस्थान में मिले 76 नए कोरोना संक्रमित केस, राज्य में कुल 2727 एक्टिव केस

    राजस्थान में मिले 76 नए कोरोना संक्रमित केस, राज्य में कुल 2727 एक्टिव केस

    राजस्थान में कोरोना से जुड़ी एक राहत भरी खबर आई है। संक्रमण फैलाव की रफ्तार के बीच ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रही है। राज्य में अभी तक कुल 8693 संक्रमित केस हैं। इनमें से 5772 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं।

    वहीं, कुल 5099 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। इससे अब राज्य में केवल 2727 एक्टिव केस हैं। रविवार को जारी रिपोर्ट में 76 नए संक्रमित केस पाए गए हैं। इनमें से, जयपुर में 21, झालावाड़ में 14, भरतपुर में 12, झुंझुनू में 7, कोटा में 6, धौलपुर और राजसमंद में 5-5, अजमेर में 3, उदयपुर में 2, टोंक में 1 संक्रमित मिला है।

    इसके साथ ही कुल संक्रमितों का आंकड़ा 8,693 पर पहुंच गया है। वहीं, जयपुर में एक और संक्रमित मरीज की मौत हो गई है। इसके साथ ही राज्य में मरने वाले संक्रमितों की संख्या 194 पर पहुंच गई है।

    प्रदेश के सभी जिले हुए कोरोना का शिकार

    प्रदेश में संक्रमण का कहर सबसे ज्यादा जयपुर में देखने को मिल रही है। यहां 1984 संक्रमित मरीज मिला हैं। जोधपुर में 1523 केस है, जो 47 ईरान से आए लोग शामिल है। उदयपुर में 543, कोटा में 458, अजमेर में 339, चित्तौड़गढ़ में 176, टोंक में 164, नागौर में 446, भरतपुर में 247, बांसवाड़ा में 85, पाली में 455, जालौर में 162 मरीज पाए गए हैं। जैसलमेर में 88 केस हैं, जो 14 ईरान से आए लोग शामिल है।

    वहीं झुंझुनूं में 96, झालावाड़ में 71, भीलवाड़ा में 122, बीकानेर में 83, मरीज मिले हैं। उधर, दौसा में 44, धौलपुर में 43, अलवर में 51, चूरू में 85, राजसमंद में 126, सिरोही में 139, हनुमानगढ़ में 14, सीकर में 139, सवाई माधोपुर में 19 मरीज मिला। इसके अलावा बाड़मेर में 91, करौली में 10, प्रतापगढ़ में 13, बूंदी में 1 और बारां में 5 संक्रमित मिले हैं। जोधपुर में बीएसएफ के 50 जवान भी पॉजिटिव मिल चुके हैं। वहीं, दूसरे राज्यों से आए 14 लोग पॉजिटिव मिले।

    नए जिले में संक्रमित की मौत

    राजस्थान में कोरोना से अब तक 194 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से जयपुर में सबसे ज्यादा 95, जोधपुर में 19, कोटा में 16, नागौर और अजमेर में 7-7, पाली में 6, भरतपुर और सीकर में 5-5, चित्तौड़गढ़ में 4, सिरोही, करौली और बीकानेर में 3-3, मौत हुई है।

    वहीं, बांसवाड़ा, जालौर, अलवर और भीलवाड़ा 2-2, झुंझुनू, दौसा, राजसमंद, उदयपुर, चूरू, प्रतापगढ़, सवाई माधोपुर और टोंक में 1-1 की मौत हुई। इसके अलावा चार और लोग भी शामिल हैं, जो अन्य राज्य में आए थे।

    और भी...

  • बीते 24 घंटों में मिले 8 हजार 134 रिकॉर्ड तोड़ मामले, भारत में मरीजों की संख्या हुई 1,73,491

    बीते 24 घंटों में मिले 8 हजार 134 रिकॉर्ड तोड़ मामले, भारत में मरीजों की संख्या हुई 1,73,491

    Coronavirus India Update: भारत में लगातार कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। बीते 24 घंटों में अब तक सबसे अधिक 8 हजार 134 रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आये हैं। इसी के साथ पूरे भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 1,73,491 हो गई है। इसमें 85 हजार 873 मामले एक्टिव हैं और 82 हजार 627 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। जबकि 4 हजार 980 लोगों की मौत हो चुकी है। बता दें कि बीते शुक्रवार को तो रिकॉर्ड 7,466 नए मामले सामने आए थे।

    दिल्ली में आज भी 1 हजार से अधिक मामले सामने आये

    महाराष्ट्र के बाद अब दिल्ली भी कोरोना वायरस का केंद्र बन गया है। दिल्ली में शुक्रवार को भी 1 हजार से अधिक कोरोना वायरस संक्रमित मिले थे। वहीं आज दिल्ली में 1105 मामले सामने आये हैं। आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में 29 मई को 2682, दिल्ली में 1105, तमिलनाडु में 874, गुजरात में 372, पश्चिमी बंगाल में 277 और राजस्थान में 298 मामले आए हैं।

    भारत ने कल तुर्की को पीछे छोड़ा

    कोरोना वायरस के मामलों में भारत ने कल तुर्की को पीछे छोड़ दिया है। आंकड़ों के मुताबिक तुर्की में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 1.60 लाख है। जबकि भारत में पिछले 24 घंटे में 8 हजार नए मामले आने के बाद 1 लाख 73 हजार 491 हो गई है। इसके बाद कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की सूची में 9वें स्थान पर पहुंच गया है।

    और भी...

  • कोरोना वायरस के मामलों में भारत ने तुर्की को छोड़ा पीछे, देश में संक्रमितों की संख्या हुई 1,65,387

    कोरोना वायरस के मामलों में भारत ने तुर्की को छोड़ा पीछे, देश में संक्रमितों की संख्या हुई 1,65,387

    Coronavirus India Update: भारत में कोरोना वायरस से संक्रमितों की रफ्तार तेज रफ़्तार से बढ़ती जा रही है। देश में रोजाना औसतन सात हजार के करीब मामले सामने आ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 7258 मामले सामने आए हैं। इसके बाद देश में कोविड 19 संक्रमितों की संख्या 1,65,387 हो गई है। 

    कोरोना वायरस के मामलों को लेकर भारत ने तुर्की को पीछे छोड़ दिया है। अब भारत पूरे विश्व में कोरोना वायरस से 9वां सबसे प्रभावित देश बन गया है। भारत में कोरोना वायरस के 28 मई को 7258 मामले सामने आए हैं। इसके बाद देश में अभी तक 1,65,387 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 89745 लोगों का उपचार अस्पतालों में चल रहा है। जबकि 70920 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। देश में अभी तक 4711 लोगों की मौत हो चुकी है।

    दिल्ली में 1 हजार से अधिक संक्रमित मिले

    महाराष्ट्र के बाद दिल्ली कोरोना वायरस का केंद्र बनता जा रहा है। दिल्ली में कल 1 हजार से अधिक कोरोना वायरस संक्रमित मिले हैं। आंकड़ों के मुुताबिक महाराष्ट्र में 28 मई को 2598, दिल्ली में 1024, तमिलनाडु में 827, गुजरात में 367, पश्चिमी बंगाल में 344 और राजस्थान में 251 मामले आए हैं।

    भारत में कल तुर्की को पीछे छोड़ा

    कोरोना वायरस के मामलों में भारत ने कल तुर्की को पीछे छोड़ दिया है। आंकड़ों के मुताबिक तुर्की में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 1.60 लाख है। जबकि भारत में पिछले 24 घंटे में 7 हजार नए मामले आने के बाद 1.65 लाख हो गई है। इसके बाद कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की सूची में 9वें स्थान पर पहुंच गया है।

    और भी...

  • दो मासूम बच्चियों को मां ने चाकू से मारकर की निर्मम हत्या, विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज

    दो मासूम बच्चियों को मां ने चाकू से मारकर की निर्मम हत्या, विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज

    हिसार। बरवाला क्षेत्र के गांव खेदड़ में वाटर सप्लाई के पास एक बेहरम मां ने दिल को दहला देने वाली घटना में अपनी दो मासूम बच्चियों की चाकू से वार कर निर्मम हत्या कर दी और खुद को भी चाकू से जख्मी कर लिया है। घायल महिला को हिसार के नागरिक अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस ने बच्चियों के पिता के बयानों के आधार पर उसकी पत्नी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार गांव खेदड़ में वाटर सप्लाई के पास अहमद की पत्नी 27 वर्षीया चोरिया ने अपनी दो बच्चियों 3 वर्षीया ममता और लगभग 1 वर्षीया किरण को चाकू से वार कर उनकी हत्या कर दी। महिला ने अपनी गर्दन पर भी चाकू से वार किया हैं। महिला ने बच्चियों की हत्या की बात कबूल ली है। महिला के पति अहमद ने कहा कि उसकी पत्नी का दिमागी संतुलन ठीक नहीं है।

    डीएसपी संजय कुमार ने बताया कि पुलिस ने दोनों बच्चियों के शव को कब्जे में ले लिया है और पोस्टमार्टम के लिए हिसार भेज दिया है। वही उनकी मां को भी इलाज के लिए अस्पताल में एडमिट करवाया गया है।

    और भी...

  • ममता सरकार ने रेलवे को लिखा पत्र, 26 मई तक कोई श्रमिक ट्रेन नहीं भेजने का किया अनुरोध

    ममता सरकार ने रेलवे को लिखा पत्र, 26 मई तक कोई श्रमिक ट्रेन नहीं भेजने का किया अनुरोध

    पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने आज रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को पत्र लिखा है। सचिव ने पत्र में लिखा है कि जिला प्रशासन इस वक्त चक्रवात तूफान अम्फान के कारण हुई तबाही से राहत और पुनर्वास के कार्यों में व्यस्त है। यही वजह है कि अगले कुछ दिनों तक स्पेशल ट्रेनों को रिसीव करना संभव नहीं होगा। इसलिए आपसे अनुरोध है कि 26 मई तक पश्चिम बंगाल में कोई भी श्रमिक ट्रेन न भेजी जाए।

    चक्रवाती तूफान ने ली 80 की जान

    आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि हाल ही में पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान अम्फान ने तबाही मचाई थी। इस तबाही में 80 लोगों की जान चली गई है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने हवाई सर्वेक्षण किया और बैठक के जरिए स्थिति का जायजा लिया। हवाई सर्वेक्षण के पीएम मोदी ने राज्य सरकार को एक हजार करोड़ रुपये देने का ऐलान किया। साथ ही पीएम मोदी ने तूफान से निपटने में ममता सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की।

    अमित शाह ने ममता सरकार पर लगाया था ये आरोप

    केंद्र सरकार ने एक राज्य से दूसरे राज्य प्रवासी मजदूरों को भेजने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को जाने की अनुमति दी है। वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखी और उन पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उनकी सरकार प्रवासियों की ट्रेनों को राज्य में आने से रोक रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में प्रवासियों की एंट्री नहीं हो रही है।

    इसको लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर कहा कि आपके सरकार प्रवासियों की ट्रेनों को राज्य में आने से रोक रहे हैं, जो सही नहीं है। इस फैसले को तुरंत बदला जाए। जिसके बाद ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने अमित शाह को जवाब दिया टीएमसी ने कहा कि हमेशा से राजनीति कर रहे हैं और कुछ नहीं कर रहे हैं या तो वह इसको प्रूफ करें या फिर वह माफी मांगे। अमित शाह से कहा कि आप आरोप साबित करें या माफी मांगें।

    https://www.haribhoomi.com/news/india/west-bengal-chief-secy-write-to-railway-board-chairman-says-no-train-should-be-sent-to-wb-till-26-may-2020-mhyd-328935

    और भी...

  • सड़क किनारे सो रहे तीन मजदूरों को डंपर ने कुचला, हादसे में तीनों की दर्दनाक मौत

    सड़क किनारे सो रहे तीन मजदूरों को डंपर ने कुचला, हादसे में तीनों की दर्दनाक मौत

    उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में आज एक रोड एक्सीडेंट में तीन मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि मिर्जापुर में एक डंपर ने तीन मजदूरों को सोते हुए कुचल दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के मुताबिक इनोवा कार में सवार होकर सात मजदूर बिहार जा रहे थे।

    ये मजदूर सोने के लिए मिर्जापुर में रूक गए थे। सात में से चार लोग गाड़ी में सो रहे थे जबकि तीन लोग बाहर सो रहे थे। इस दौरान एक डंपर ने नीचे सो रहे तीनों मजदूरों की कुचल दिया है। इस हादसे में तीनों मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई हैं।

    मिली खबरों के अनुसार, मृतक मुंबई में काम करते थे। देश में कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन में काम-धंधा ठप होने के बाद यह सभी अपने घर बिहार के गोपालगंज लौट रहे रहे थे। पुलिस ने डंपर को कब्जे में लेकर आरोपी चालक को गिरफ्तार कर लिया है। इस हादसे की जानकारी मिलकने के बाद जिले के आलाधिकारियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर मुआयना किया हैं।

    उन्होंने मृतकों के परिजनों को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है। मृतकों के शवों का पोस्टमॉर्टम करवाने के बाद उसे और बाकी के प्रवासी मजदूरों को प्रशासन की ओर से बिहार के गोपालगंज जिला जाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था कर दी गई है।

    और भी...

  • 100 से अधिक झुग्गियों में लगी आग, कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू

    100 से अधिक झुग्गियों में लगी आग, कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू

    देश की राजधानी दिल्ली के कीर्ति नगर में स्थित झुग्गियों में आग लगने की खबर सामने आई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, आग में करीब 100 से अधिक झुग्गियां जलकर खाक हो गईं। मीडिया रिपोर्ट्स के मतुाबिक, फायर बिग्रेड को आग की सूचना बीती रात करीब 11:20 बजे दी गई। जिसके बाद 30 से ज्यादा फायर बिग्रेड की गाड़ियां आग पर काबू पाने के लिए घटनास्थल पर पहुंची।

    कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। राहत की बात यह रही कि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ। इन झुग्गियों में बड़ी संख्या में मजदूर रहते हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि झुग्गियों में मौजूद सिलिंडर में हुए ब्लास्ट के कारण आग लगी थी जिसने भयावह रूप धारण कर लिया था। फिलहाल इसपर काबू पा लिया गया है और प्रशासन राहत एवं बचाव कार्य में लगा हुआ है।

    ​काफी दूर तक दिखीं आग की लपटें

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि कीर्ति नगर को एशिया की सबसे बड़ी फर्नीचर मार्केट कहा जाता है। यहां पर एहतियातन इलाके की बिजली काट दी गई थी। पुलिस की टीम झुग्गी बस्तियों में फंसे मजदूरों को बाहर निकालने में जुटी है। फिलहाल साफ तौर पर पता नहीं चल पाया है कि आग लगने की वजह क्या थी। इसकी जांच की जा रही है। बता दें कि इस इलाके में पहले भी ऐसी घटना हो चुकी है।

    और भी...

  • RBI ने किया रेपो रेट में कटौती की घोषणा, तीन महीने के लिए बढ़ा छूट का समय

    RBI ने किया रेपो रेट में कटौती की घोषणा, तीन महीने के लिए बढ़ा छूट का समय

    रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस किया है। इस में गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट में 0.40% की कटौती करने की घोषणा की है। अब रेपो रेट 4.40 प्रतिशत से घटकर 4 प्रतिशत हो जाएगा। वहीं, रिवर्स रेपो रेट 3.75% से घटाकर 3.35% किया गया है। लोन की किश्त चुकाने में छूट का समय तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। अब अगस्त तक इसका फायदा मिलता रहेगा। गवर्नर ने यह भी बताया कि मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी के 6 में से 5 सदस्यों ने रेपो घटाने के पक्ष में हैं। गवर्नर शक्तिकांत दास ने यह भी बताया कि कमेटी की मीटिंग 3 जून से होनी थी, लेकिन पहले ही कर ली गई है।

    रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत तक कम हो गई

    भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना वायरस के वजह से अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है। MPC ने रेपो रेट में कटौती करने का फैसला किया है। रेपो रेट में 40 आधार अंकों की कटौती के साथ रेपो रेट 4.4 प्रतिशत से घटकर 4 प्रतिशत हुआ। रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत तक कम हो गई है।

    2021 में विकास दर नकारात्मक रहने की संभावना

    आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि कोर इंडस्टिरीज के आउटपुट में 6.5% की कमी हुई है और मैन्युफेक्चरिंग में 21 फीसदी की गिरावट हुई है। मार्च में औद्योगिक उत्पादन में 17 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है। मांग और उत्पादन में कमी आई है। वहीं खरीफ की बुवाई में 44 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। अप्रैल महीने में निर्यात में 60.3 प्रतिशत की कमी आई है। 2021 में विकास दर नकारात्मक रहने की संभावना है।

    दुनिया में कारोबार इस साल 13-32 प्रतिशत तक घट सकता है

    आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि अप्रैल में ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई घटकर 11 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है। डब्ल्यूटीओ के अनुसार, दुनिया में कारोबार इस साल 13-32 प्रतिशत तक घट सकता है।

    लॉकडाउन से आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई

    भारत में दो महीने के लॉकडाउन से आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। इंडस्ट्री वाले टॉप-6 राज्यों के अधिकतर इलाके रेड और ऑरेंज जोन में हैं। इन राज्यों की इंडस्ट्री का आर्थिक गतिविधियों में 60 प्रतिशत कॉन्ट्रिब्यूशन होता है।

    भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अभी 487 अरब डॉलर

    अप्रैल में खाद्य महंगाई बढ़कर 8.6 प्रतिशत हो गई है। अगले महीनों में दालों की महंगाई चिंता की बात रहेगी। वर्ष 2020-21 में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार 9.2 अरब डॉलर की वृद्धि दर्ज की गई है। भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अभी 487 अरब डॉलर का है। एग्जिम बैंक को 15,000 करोड़ रुपये का क्रेडिट लाइन दिया जाएगा। सिडबी को दी गई रकम का इस्तेमाल आगे और तीन महीने तक करने की अनुमति है।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि आरबीआई ने टर्म लोन मोरेटोरियम 31 मई से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दिया गया है। 3 महीने और बढ़ने से अब मोरेटोरियम की सुविधा 6 महीने की हो गई है। यानी इन छह महीने अगर आप अपनी ईएमआई नहीं चुकाते हैं, तो आपका लोन डिफॉल्ट या एनपीए कैटेगरी में नहीं माना जाएगा।

    बीते दो महीनों में तीसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस

    आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की बीते दो महीनों में यह तीसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी। शक्तिकांत दास ने पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस 27 मार्च और दूसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस 17 अप्रैल को की थी। इन दोनों प्रेस कॉन्फ्रेंस में शक्तिकांत दास ने अर्थव्यवस्था में तेजी लाने और बैंकिंग सिस्टम में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए कई उपायों का ऐलान किया था।

    बता दें कि इससे पहले आरबीआई के एक डायरेक्टर और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे सतीश काशीनाथ मराठे ने केंद्र की मोदी सरकार के राहत पैकेज पर सवाल उठाए थे। सतीश काशीनाथ मराठे ने कहा था कि 90 दिनों का मो​रेटोरियम काफी नहीं है और एनपीए में नरमी को राहत पैकेज का हिस्सा होना चाहिए था।

    और भी...

  • भूख और प्यास की वजह से 40 वर्षीय प्रवासी मजदूर ने तोड़ा दम

    भूख और प्यास की वजह से 40 वर्षीय प्रवासी मजदूर ने तोड़ा दम

    देश में लागू लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूरों का पलायन जारी है। प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए हजारों किलोमीटर से भी अधिक का सफर पैदल ही तय कर रहे हैं। ऐसे में कई मजदूरों ने घर पहुंचे से पहले ही रास्ते में ही दम तोड़ दिया है। और अपने परिवार के लिए कभी ना भूलने वाल दर्द दे गए है। ताजा मामला महाराष्ट्र से सामने आया है। यहां पर एक 40 वर्षीय प्रवासी मजदूर ने भूख और प्यास की वजह से दम तोड़ दिया है। इसी के साथ ही मजदूरों के शरीर में पानी की भी अधिक कमी हो गई थी। इस बात की जानकारी पुलिस ने बुधवार को दी।

    अंबुरा पुलिस स्टेशन के सहायक निरीक्षक दिनेश्वर कुकलारे ने बताया कि 40 वर्षीय पिंटू पवार सोमवार को बीड जिले के धनोरा गांव में मृत पाए गए थे। अधिकारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम में पाया गया कि 15 मई के आसपास ज्यादा चलने, भूख और पानी की कमी (निर्जलीकरण) से पिंटू पवार की मौत हुई है। पीड़ित परभणी के मैनवाट तहसील के धोप्टे पंडौल गांव की मूल निवासी था। वह गन्ना कटर के रूप में काम करता था। लेकिन लॉकडाउन लागू होने के बाद, वह अपने भाई के पास पुणे में रहने के लिए चला गया था।

    मजदूरों ने अपने पैतृक गांव लौटने के लिए 8 मई को पुणे से पैदल जाने का फैसला किया था। मजदूर 14 मई को अहमदनगर पहुंचा। चूंकि उनके पास मोबाइल फोन नहीं था, इसलिए उन्होंने किसी अन्य के फोन से परिवार के लोगों से संपर्क किया। अधिकारी ने कहा कि वहां से वह धनोरा तक एक और 30 से 35 किमी तक चला और वहां एक टिन शेड के नीचे आराम के लिए ठहर गया था। सोमवार को कुछ राहगीरों ने शेड से निकलने वाली दुर्गंध की शिकायत पुलिस की दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मजदूर को मृत पाया। उन्होंने कहा कि पोस्टमॉर्टम के बाद धनोरा ग्राम पंचायत के अधिकारियों और पुलिस ने उनके परिवार के सदस्यों के साथ सलाह के बाद उनका अंतिम संस्कार किया।

    और भी...

  • चक्रवाती तूफान अम्फान को लेकर पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में हाई अलर्ट, NASA ने जारी की तस्वीरें

    चक्रवाती तूफान अम्फान को लेकर पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में हाई अलर्ट, NASA ने जारी की तस्वीरें

    Cyclone Amphan: चक्रवाती तूफान अम्फान को लेकर पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम विभाग ने बताया कि चक्रवाती तूफान पश्चिम बंगाल के दीघा और हटिया तटीय इलाकों के पास पहुंचने वाला है। पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में तेज हवाओं की रफ्तार हो गई है। वहीं थोड़ी देर में बरसात भी हो सकती है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चक्रवाती तूफान को लेकर उड़ीसा में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। तो वहीं दूसरी तरफ 14 लाख से ज्यादा लोगों को दूसरी जगह पर शिफ्ट किया गया है। बताया जा रहा है कि 21 साल बाद ऐसा भयंकर तूफान आ रहा है। जानकारी के लिए बता दे कि चक्रवाती तूफान पश्चिम बंगाल के बाद उड़ीसा के तटीय इलाकों से टकराएगा।

    बंगाल की खाड़ी में उठा तूफान अम्फान अब बहुत तेजी से पश्चिम बंगाल के तट की ओर बढ़ रहा है। सुपर साइक्लोन तट के किनारे की ओर जैसे बढ़ता जा रहा है। ऐसे ही खतरनाक होता जा रहा है। तूफान सबसे पहले ओडिशा से पारादीप से टकराएगा। पारादीप में तूफान की आहट दिखने लगी है, जहां तेज हवा के साथ बारिश हो रही है। वहीं ओडिशा और बंगाल के तटीय इलाकों में सन्नाटा पसरा है।

    वहीं उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में सन्नाटा पसरा हुआ है। एक तरफ कोरोना महामारी और दूसरी तरफ तूफान की तबाही इन दोनों के वजह से यहां के लोग काफी डरे हुए हैं। फिलहाल, मौसम विभाग और एनडीआरएफ ने सभी लोगों से घर में रहने की अपील की है प्रशासन ने अब तक 1400000 से ज्यादा लोगों को दूसरे जगह पर शिफ्ट कर दिया है। इसके अलावा तटीय इलाकों पर एनडीआरएफ की टीम ने मोर्चा संभाला हुआ है। कोस्टगार्ड की टीमें और नौकाएं लगातार समुद्री इलाकों में गश्त कर रही हैं।

    अमेरिकी एजेंसी नासा ने तस्वीरें जारी की

    चक्रवाती तूफान को लेकर अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने कुछ तस्वीरें जारी की है। मौसम विभाग ने उड़ीसा और असम के लिए हाई अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा बंगाल, तमिलनाड, त्रिपुरा, मणिपुर और जम्मू कश्मीर के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

    मौसम विभाग ने बताया कि 21 साल पहले ओडिशा के पारादीप तट पर ऐसा ही भयंकर चक्रवाती तूफान आया था। जिसने काफी नुकसान मचाया था। एक बार फिर 21 साल बाद ऐसा ही भयंकर तूफान आया है।

    और भी...

  • अम्फान का कहर शुरू, केंद्रपाड़ा में चल रही तेज हवाएं, 1 लाख 37 हजार से अधिक लोगों को किया गया शिफ्ट

    अम्फान का कहर शुरू, केंद्रपाड़ा में चल रही तेज हवाएं, 1 लाख 37 हजार से अधिक लोगों को किया गया शिफ्ट

    ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त पीके जेना ने बुधवार को चक्रवाती तूफान अम्फान को लेकर बयान दिया है। पीके जेना का कहना है कि चक्रवाती तूफान अम्फान रादीप से 110 किलोमीटर दूर है और ये 18-19 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। 1 घंटे पहले पारादीप में 102 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली थी।

    आज शाम को पश्चिम बंगाल में सुंदरबन के पास लैंडफॉल की आशंका है। अगले 6 से 8 घंटे महत्वपूर्ण हैं। अब तक हम 1,37,000 से अधिक लोगों को शिफ्ट कर चुके हैं। अभी भी बालेश्वर और मयूरभंज ज़िलों में निकासी अभियान चलाया जा रहा हैं। बारिश और हवा को देखते हुए लोग खुद से हमारे शेल्टर में आ रहे हैं।

    लाइव अपडेट..

    आपको बता दें की अम्फान का कहर शुरू हो गया है। ओडिशा के केंद्रपाड़ा में बहुत तेज़ हवाएं चल रही हैं, आज शाम पश्चिम बंगाल में सुंदरबन के पास चक्रवात अम्फान से लैंडफॉल होने की आशंका है।

    पश्चिम बंगाल के पूर्वी मेदिनीपुर के दीघा में हाई टाइड और तेज़ हवाएं चल रही हैं। चक्रवाती तूफान अम्फान की वजह से से आज लैंडफॉल की उम्मीद है। वहीं ओडिशा में बालासोर ज़िले के चांदीपुर में तेज हवा चलने के साथ बारिश हो रही है। चक्रवात अम्फान से आज भूस्खलन की आशंका है।

    सुबह 6:30 बजे अत्यंत भयंकर चक्रवाती तूफान के रूप में केंद्रित था

    भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि चक्रवात अम्फान आज सुबह 8:30 बजे पारादीप, ओडिशा से लगभग 120 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व में, सुंदरबन के पास दीघा (पश्चिम बंगाल) और हटिया द्वीप (बांग्लादेश) के बीच पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों को पार करने वाला है। दोपहर से लैंडफॉल की प्रक्रिया शुरू होगी। आईएमडी ने यह भी बताया कि बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी, पारादीप से लगभग 125 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में चक्रवात अम्फान आज सुबह 6:30 बजे अत्यंत भयंकर चक्रवाती तूफान के रूप में केंद्रित था।

    और भी...

  •  लॉकडाउन 4.0 में मोदी सरकार ने दी कई तरह की राहत, नियमों का उल्लंघन करना पड़ेगा महंगा

    लॉकडाउन 4.0 में मोदी सरकार ने दी कई तरह की राहत, नियमों का उल्लंघन करना पड़ेगा महंगा

    मोदी सरकार ने लॉकडाउन 4.0 में तमाम रियायतें दी हैं, लेकिन नियम और शर्तों व सख्त हिदायत के साथ। अगर सरकार द्वारा निर्धारित नियमों का उल्लंघन किया जाएगा तो वह काफी महंगी पड़ेंगी। बता दें कि 18 मई से लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू हो गया है, जो 31 मई तक लागू रहने वाला है। इस चरण में सरकार ने लोगों को तमाम छूट दी हैं, लेकिन बहुत सारे सख्त नियम भी बनाए गए हैं। वैसे तो सरकार की गाइडलाइंस काफी लंबी चौड़ी है, लेकिन रोजमर्रा में होने वाली कुछ ऐसी गलतियां हैं जिन पर ध्यान रखा जाना अति आवश्यक है।

    मास्क नहीं लगाया तो दिक्कत

    सार्वजनिक जगहों या दफ्तरों में फेस मास्क लगाना जरूरी है। जरूर नहीं है कि यह मास्क बाजार का हो, ये घर का बना हुआ भी हो सकता है। मास्क नहीं है तो मुंह पर गमछा या रूमाल भी लपेटी जा सकती है।

    इधर-उधर थूकना पड़ेगा महंगा

    सार्वजनिक जगहों या दफ्तरों में इधर-उधर थूकने पर कानून के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा, हो सकता है कि कुछ सजा भी हो जाए। तो थूकना हो तो वॉशरूम का इस्तेमाल करें।

    3- सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी

    लॉकडाउन 4.0 में सबसे बड़ी शर्त ये है कि लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। यानी एक दूसरे को छूने से बचना होगा, 1 मीटर की दूरी बनानी होगी, हाथ नहीं मिलाना होगा। इन तमाम सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों से ही कोरोना को हराया जा सकता है।

    शादी में 50 से ज्यादा लोग नहीं

    सबसे अधिक भीड़-भाड़ शादियों में होती है, लेकिन शादियां बंद तो कराई नहीं जा सकतीं, इसलिए शादी के लिए भी नियम बनाए गए हैं। किसी भी शादी के समारोह में 50 से अधिक लोग जमा नहीं हो सकते हैं और उन्हें भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा।

    सिर्फ 20 लोग ही पहुंचें अंतिम संस्कार में 

    कहते हैं मौत पर किसी का वश नहीं चलता, ऐसे में किसी की मौत होने की स्थिति में उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, वो भी पूरे रिवाजों के साथ। मोदी सरकार ने कहा है कि अंतिम संस्कार या जनाज़े में अधिकतम 20 लोग ही जमा हो सकते हैं, वो भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए।

    सार्वजनिक जगहों पर नशा या धूम्रपान

    भले ही सरकार ने अपना राजस्व बढ़ाने के लिए शराब की दुकानें तीसरे चरण के लॉकडाउन में ही खोल दीं और इस चरण में पान, गुटखा, तंबाकू भी बिक रहे हैं, लेकिन सार्वजनिक जगहों पर सब बैन है। यानी अगर किसी ने सार्वजनिक जगह पर शराब पी, गुटखा खाया, पान खाया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

    ग्राहक-दुकानदार के लिए नियम

    दुकानदार को यह ध्यान रखना जरूरी है कि उसकी दुकान में एक बार में 5 से अधिक लोग ना हों। साथ ही जो लोग हों, उनके बीच दो गज या 6 फुट की दूरी हो। इस बात का ध्यान खरीदार को भी रखना होगा, वह इसे दुकानदार की जिम्मेदारी कहते हुए पल्ला नहीं झाड़ सकता। पकड़े जाने पर कार्रवाई होगी।

    कार्यालयों में बुलाएं जरूरी कर्मचारी

    सरकार ने यह स्पष्ट किया है कि दफ्तरों को यह सुनिश्चित करना होगा कि अति आवश्यक कार्य करने वाले कर्मचारियों को ही ऑफिस बुलाया जाए। जितने अधिक कर्मचारियों को घर से काम कराया जा सके, उतना बेहतर है। जबरदस्ती ऐसे कर्मचारियों को भी ऑफिस बुलाना, जो घर से काम कर सकते हैं, दफ्तर के खिलाफ जा सकता है।

    ऑफिस में भी सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी

    दफ्तरों में काम करने के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है। इसे सुनिश्चित करने के लिए ही दफ्तरों, दुकानों, बाजारों और फैक्ट्रियों में कर्मचारियों के घंटे बांटे हैं शिफ्टिंग ड्यूटी से काम चल सकता है तो शिफ्ट सुनिश्चित की जाए।

    दफ्तरों में थर्मल स्कैनिंग व सैनिटाइजर जरूरी

    हर दफ्तर के अंदर आने और बाहर जाने की जगहों पर थर्मल स्कैनिंग, हैंडवॉश और सैनिटाइजर की व्यवस्था करना दफ्तर के लिए जरूरी है। ऐसा ना होने पर दफ्तर के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। वहीं अगर कोई कर्मचारी थर्मल स्कैनिंग से भागता है तो उसके खिलाफ भी एक्शन लिया जा सकता है।

    कार्यालय, कंपनी की सैनिटाइजेशन जरूरी

    दरअसल, यह नियम सिर्फ कंपनी वाले पर लागू होता है। कंपनी को ये सुनिश्चित करना होगा कि दफ्तर या काम करने की जगह को पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाए। साथ ही जिन चीजों को लोग बार-बार छूते हैं, उसे सैनिटाइज भी करना जरूरी है, जैसे दरवाजों के हैंडल।

    लंच ब्रेक और शिफ्ट में काम

    अक्सर कंपनियों में लंच ब्रेक एक ही समय होता है, यानी पूरा ऑफिस एक ही बार खाना खाने जाता है। कंपनियों को लंच ब्रेक को लेकर नियम बनाने होंगे, चाहे तो वह टुकड़ों में भी लंच ब्रेक दे सकता है, ताकि भीड़-भाड़ ना हो। काम करने की टाइमिंग भी शिफ्ट में कराई जा सकती है।

    और भी...

  • 12 दिनों में दोगुनी हुई संक्रमितों की संख्या, भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार

    12 दिनों में दोगुनी हुई संक्रमितों की संख्या, भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार

    Coronavirus India Update: भारत में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 12 दिनों में ही दोगुनी हो गई है। पिछले 12 दिनों में कोरोना वायरस के मामलों में बहुत तेजी से बढ़ोतरी हुई हैं। इसके बाद अब भारत भी 1 लाख कोरोना वायरस संक्रमित देशों में शामिल हो गया है। विश्वभर में अभी तक 11 देशों में 1 लाख से अधिक लोग कोरोना महामारी की चपेट में आ चुके हैं।

    आपको बता दें की भारत में 18 मई को कोरोना वायरस के 4629 मामले सामने आए हैं। इसके बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या 100328 हो चुकी है। सबसे ज्यादा 2005 मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। इसके अलावा तमिलनाडु में 536, गुजरात में 366, राजस्थान में 305, दिल्ली में 299, मध्यप्रदेश में 259, पश्चिमी बंगाल में 148, उत्तर प्रदेश में 141, जम्मू कश्मीर में 106 और बिहार में 103 संक्रमित मरीज मिले हैं।

    दूसरी तरफ भारत में संक्रमित 100328 मरीजों में से 57933 ही सक्रिय हैं यानि अस्पतालों में भर्ती हैं। जबकि 39233 मरीज इस महामारी से ठीक हो चुके हैं और 3156 लोगों की इससे मौत भी हो चुकी है। आंकड़ों के मुताबिक 17 मई को 2438 संक्रमित ठीक हुए हैं। इसके अलावा 131 लोगों की महामारी से मौत हुई है।

    मुंबई-चेन्नई में हालात हुए बदतर

    भारत के दो बड़े शहर मुंबई और चेन्नई में हालात बदतर हो गए हैं। महाराष्ट्र-तमिलनाडु में आ रहे कोरोना वायरस संक्रमितों में से 70 फीसदी मामले सिर्फ इन दोनों शहरों में आए हैं। आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में 21335 कोरोना वायरस संक्रमित मिल चुके हैं। इसी तरह चेन्नई में 7125 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं।

    भारत में 12 दिन में दोगुने हुए मामले

    भारत में कोरोना वायरस के मामले 12 दिन में ही दोगुना हो गया हैं। आंकड़ों के मुताबिक 6 मई को भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 50 हजार को पार कर गई थी। इसके ठीक 12 दिन बाद भारत में 1 लाख से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इससे पहले 25 हजार से 50 हजार मामले होने में 11 दिन लगे थे।

    और भी...

  • Delhi Metro: जल्द शुरू हो सकती है मेट्रो, नियमों में किए जाएंगे काफी बदलाव

    Delhi Metro: जल्द शुरू हो सकती है मेट्रो, नियमों में किए जाएंगे काफी बदलाव

    Delhi Metro: देश में तीन लॉकडाउन की सख्ती के बाद चौथे लॉकडाउन में कुछ बदलाव होने की संभावना बताई जा रही है। काफी दिनों से देश में लॉकडाउन की स्थिति जिसका असर अर्थव्यव्सथा पर भी पड़ा है। वहीं चौथे लॉकडाउन में अर्थव्यवस्था को फिर से चलाने की तैयारी की जा रही है। इसके साथ ही पिछले कुछ दिनों से दिल्ली की मेट्रो के चलने की चर्चा काफी समय से हो रही है। 

    मिली जानकारी के मुताबिक मेट्रो के चलने के बाद नियमों में काफी बदलाव किए जाएंगे। इसी बीच आज हम कुछ नियमों को बताने जा रहे हैं, जो मेट्रो शुरू होने के बाद देखने को मिल सकते हैं।

    टोकन और कार्ड धारकों की लाइन होगी अलग

    फिलहाल अभी इन नियमों का फाइनल होना बाकी है। खबरों की मानें तो कार्ड धारकों और टोकन लेने वालो के लिए अलग लाइन होगी। वहीं मेट्रो में खड़े होकर सफर करने का कोई भी प्रवाधान नहीं होगा। यात्रा कर रहे सभी लोगों को आरोग्य सेतु ऐप का यूज करना जरूरी होगा।

    सोशल डिस्टेंसिंग का रखना होगा खास ख्याल

    एंट्री और एक्सिट करते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए मेट्री के सीट पर स्टीकर लगाएं गए हैं। स्टीकर लगे सीटों पर बैठने की अनुमति नहीं होगी। इसके साथ ही आपको बताना चाहेंगे कि कोरोना से बचने के लिए खुद भी कुछ सावधानियां बरतनी बहुत जरूरी है।

    कम सामान ले जाने की डालें आदत

    सफर के दौरान कम सामान ले जाने की आदत डालें। वहीं अगर आप बैग लेकर जाते हैं तो उसे घर आकर धोना भी जरूरी है क्योंकि बैग में वायरस रुकने को खतरा हो सकता है।

    ग्लव्स पहन कर ही निकलें बाहर

    सफर करते वक्त हाथ इधर उधर लग ही जाते हैं इसलिए बेहतर है कि ग्लव्स पहन कर ही बाहर निकलें और साथ में सेनिटाइजर ले जाना न भूलें।

    मास्क लगाना है बहुत जरूरी

    सफर के दौरान मास्क लगाना होगा बहुत जरूरी। मेट्रो के अंदर या मेट्रो स्टेशन पर भी मास्क हटाने की नहीं होगी अनुमति। बेहतर है जब भी घर से बाहर निकलें, तो मास्क लगाकर ही निकलें। कोशिश करें कि मास्क मेडिकली अप्रूव हो। मास्क पर हाथ लगाने से बचें।

    और भी...

  • पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में पलटी मजदूरों से भरी बस, 4 महिला, 3 बच्चों समेत 15 प्रवासी मजदूर घायल

    पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में पलटी मजदूरों से भरी बस, 4 महिला, 3 बच्चों समेत 15 प्रवासी मजदूर घायल

    जलपाईुड़ी। देश में कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूरों का पालायन जारी है। लॉकडाउन के दौरान देश के कई जगहों पर मजदूरों के साथ हो रही कई दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं। अब ताजा मामला पश्चिम बंगाल के जलपाईुड़ी से सामने आया है। मिली जानकारी के मतुाबिक, हादसा पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी का है, जहाँ मजदूरों से भरी एक बस पलट गई है। जिसमें 4 महिलाओं, 3 बच्चों समेत करीब 15 प्रवासी मजदूर घायल हो गए हैं।

    बताया जा रहा है कि बीती देर रात जलपाईगुड़ी जिले में धुपगुड़ी ब्लॉक के अंतर्गत मोरंगा चौपाटी के पास यह हादसा हुआ है। हादसे की जनकारी मिलने के बाद धुपगुड़ी पुलिस मौके पर पहुंची और राहत-बचाव का कार्य शुरू किया गया।

    आपको बता दें की पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को उपाचर के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिसमें एक मजदूर की हालत गंभीर बताई जा रही है। हादसे के बाद से ही बस चालक बस को छोड़कर फरार हो गया है। फिलहाल पुलिस मामले में छानबीन में जुट गई है। बताया जा रहा है कि यह सभी प्रवासी मदजूर बिहार के अंतर्गत साहुदांगी ईंट कारखाने में काम कर रहे थे। यह सभी बस में सवार होकर अपने गृह नगर कूचबिहार जिले की ओर  जा रहे थे।

     

    और भी...